महबूबा मुफ़्ती को बहुत चिंता है धारा 370 की .. वो धारा जो वजह बनी है हजारों जवानो के बलिदान की

जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती ने राज्य को मिले विशेषाधिकारों को लेकर कहा कि राज्य पर लगातार हो रहे हमले ठीक नहीं है और इन पर कोई समझौता नहीं हो सकता है। शुक्रवार को एक कार्यक्रम के दौरान मुफ्ती ने कहा कि सूबे के संवैधानिक दर्जे से छेड़छाड हुई तो कश्मीर में कोई गिरे हुए तिरंगे को उठाने वाला भी नहीं मिलेगा।

महबूबा मुफ्ती का कहना है कि केंद्र और राज्य की सरकारों की तनातनी में आम लोगों का नुकसान होता रहा है जो बीते 70 साल से हो रहा है। उन्हें कहा कि गोला-बारूद और सेना बढ़ाने से कश्मीर के मुद्दे का हल नहीं होगा, जरूरत इस बात की है कि कश्मीरी अवाम की जरूरतों को सरकारें समझें। महबूबा मुफ्ती ने कहा कि कुछ लोगों को लगता है कि आर्टिकल 35A और 370 को वार कर वो अलगाववादियों को नुकसान पहुंचा रहे हैं, लेकिन ये गलत है।
जो लोग कश्मीर के विशेषाधिकारों को खत्म करना चाहते हैं वो उन लोगों की ताकत को कमजोर कर रहे हैं, जो भारत के साथ हैं और चुनाव में हिस्सा लेते हैं। महबूबा मुफ्ती ने ये बातें तब कहीं जब वो आर्टिकल 35 ए को खत्म करने के लेकर कोर्ट में दी गई याचिका पर बोल रही थीं। 35 ए के तहत जम्मू कश्मीर के विधायकों और सांसदों को कई खास सहूलियतें मिलती हैं। महबूबा मुफ्ती ने कहा कि जम्मू-कश्मीर के लिए संविधान में खास अधिकार हैं और हमें कश्मीर मुद्दे को सुलझाने की जरूरत है ना कि विशेषाधिकारों पर हमला कर मामले को और ज्यादा उलझा देने की।
Share This Post