UP में साधुओं का क़त्ल तो महाराष्ट्र में पुलिस पर हमला.. गौमांस के बाद अब इंसानों के खून के प्यासे हुए गौहत्यारे


विपक्षी राजनैतिक दलों तथा तथाकथित बुद्धिजीवियों द्वारा मॉब लिंचिंग की आड़ में जिस तरह से अप्रत्यक्ष रूप से गौ तस्करी को जायज बताया गया, उसके दुष्परिणाम सामने आने लगी है. सड़क से संसद तक जिन गौ हत्यारो के लिए हंगामा मचाया गया उन गौहत्यारों ने अब वो हिंसक स्वरूप दिखाना शुरू कर दिया जो किसी के भी रोंगटे खड़े कर देने के लिए काफी है. हाल ही में मुझ्बी उन्मादी गौहत्यारों ने उत्तर प्रदेश के औरया में तीन गौरक्षक संतों का क्रूरतम तालिबानी अंदाज में क़त्ल किया था तो अब उनका निशाना बनी है कानून की रक्षक खाकी वर्दी.

मामला माहाराष्ट्र के पुणे का है जहाँ गोमांस बेचने वालों पर कार्रवाई करने गई पुलिस टीम पर हमला किया गया. इस हमले में एक पुलिसकर्मी गंभीर रूप से घायल हुआ है. वारदात को अंजाम देने के बाद सभी आरोपी भाग निकले. पुलिस को जानकारी मिली थी कि पिंपरी चिंचवड़ के दिघी में गोमांस बेचा जा रहा है. जैसे ही पुलिस कार्रवाई के लिए पहुंची, गौहत्यारों ने पुलिस बल पर हमला बोल दिया.  जानकारी के अनुसार, मैगज़ीन चौक पर गोमांस से लदी एक स्कॉर्पियो खड़ी थी. पुलिस को देखते ही आरोपी भागने लगे. इस दौरान जब एक पुलिसकर्मी ने उन्हें रोकने का प्रयास किया तो आरोपियों ने उस पर गाड़ी चढ़ा दी. अन्य पुलिसकर्मी पास आये तो गौहत्यारों ने पुलिस बल पर हमला कर दिया तथा जब उन्हें लगा कि गाड़ी सहित भागना उनके लिए आसान नहीं होगा, तो वो कार वहीं छोड़कर फरार हो गए. पुलिस ने कार से कई किलो गोमांस बरामद किया है तथा घायल पुलिसकर्मी को अस्पताल भेजा गया है.

वोट के सौदागरों द्वारा गौहत्यारों के बचाव का दंश अब देश झेल रहा है, सनातनी संत झेल रहे हैं तो कानून की रक्षक पुलिस भी झेल रही है. अभी तक गोमांस के भूखे रहे दरिन्दे अब इंसानी खून के प्यासे होते जा रहे हैं. जब कोई गौतस्कर मारा जाता है तो संसद से सड़क तक हल्ला किया जाता है, देश को असहिष्णु घोषित कर दिया जाता है लेकिन जब गौहत्यारे संतों का कत्ल करते हैं, पुलिस को पीट पीट कर घायल करते हैं तो धर्मनिरपेक्षता कायम रहती है, देश पुनः सहिष्णु हो जाता है तो संविधान पर आया खतरा भी टल जाता है. ये स्थिति बना रखी है वोट के सौदागरों ने.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share