Breaking News:

महाराष्ट्र को बना लिया था कट्टरपंथ की प्रयोगशाला.. 36 बांग्लादेशी दबोचे गये, अभी कई और बाकी

बंगलादेशी घुसपैठिये जो कैंसर की तरह देश में अनेक जगह फ़ैल गये हैं तथा देश को तबाह कर रहे हैं, ये कभी शरणार्थी बनकर भारत आते हैं तो कभी काम धंधे के लिए हिन्दुस्तान आते हैं लेकिन इनके पीछे की सोच हो वो हिन्दुस्तान को तबाह करने हैं. इन्हीं बांग्लादेशियों ने छत्रपति शिवाजी की भूमि महाराष्ट्र को अपनी कट्टरपंथ की प्रयोगशाला बना लिया था, लेकिन महाराष्ट्र ATS के दस्ते इनके नापाक मंसूबों को लगातार कुचलते जा रहे हैं.

देश के भिन्न भिन्न जगहों से गिरफ्तार होते बंगलादेशी घुसपैठियों के बीच अब एक बार फिर से महाराष्ट्र आतंकवाद निरोधक दस्‍ते (एटीएस) ने पुणे ग्रामीण के पिपंरी चिंचबड़ में छापा मार कर अवैध तरीके से रहे 36 बांग्लादेशियों को गिरफ्तार किया है. बताया गया है कि इसके बाद भी कई इलाकों में भी छापेमारी की जा रही है. पिपंरी चिंचबड़ में कल से छापेमारी चल रही है. एटीएस को इलाके में बांग्‍लादेशियों में के होने की सूचना मिली थी जिसके बाद महारष्ट्र ATS के दस्ते ने वहां जाकर छापेमारी की, इस दौरान वहां मजूद लोगों की वास्तविक पहिचान हुई तो ATS दस्ता हैरान रह गया. वहां 1 या दो नहीं बल्कि ३६ बांग्लादेशी गिरफ्तार हुए.

बता दें कि इससे पहले मार्च में भी महाराष्ट्र के आतंकवाद निरोधक दस्ते (एटीएस) ने बगैर वैध दस्तावेजों के भारत में रहने के आरोप में आठ बांग्लादेशी नागरिकों को कांदिवली इलाके से गिरफ्तार किया था. पुलिस ने इस बात की जानकारी दी. अधिकारियों ने रविवार रात कांदिवली के लालजीपदा इलाके में एटीएस की चारकोप इकाई की छापेमारी के बाद इन आठ आरोपियों को गिरफ्तार किया. बताया गया कि उन्होंने कबूल किया था कि वे बांग्लादेश के नागरिक हैं. दो लोगों ने तो पैन कार्ड और आधार कार्ड भी बनवा लिया था. पासपोर्ट (भारत में प्रवेश) नियमों, विदेशी अधिनियम और आईपीसी की धाराओं के तहत उनके खिलाफ मामला दर्ज किया गया.

Share This Post