Breaking News:

रमजान में बच्चे ने पहली बार कदम रखा था मदरसे में तभी उस पर नजर पड़ी मौलवी इकबाल की.. बच्चे में दिखी उसे हवस और फिर …


राजस्थान में महिलाओं तथा बच्चों के साथ दुष्कर्म व कुकर्म की घटनाएँ थमने का नाम ही नहीं ले रही हैं. एक के बाद एक राजस्थान के विभिन्न जगहों हैवान दरिंदों के वहशी कृत्य लगातार सामने आ रहे हैं. वो राजस्थान जिसकी माटी को स्वाभिमान, शौर्य, पराक्रम का प्रतीक माना जाता है, पिछले कुछ समय से वो राजस्थान रेप कैपिटल बनता हुआ नजर आ रहा है. अलवर के अलावा सीकर तथा नागौर में हैवानों द्वारा महिलाओं की इज्जत नीलाम किये जाने के बाद रतनगढ़ में मदरसे के एक मौलवी द्वारा मासूम बच्चे के साथ कुकर्म की घटना को अंजाम दिया गया है.

खबर के मुताबिक़, राजस्थान के रतनगढ़ के वार्ड 28 स्थित मदरसा मोहम्मदिया के मौलवी इकबाल  ने तालीम लेने आये 11 वर्षीय मासूम बच्चे के साथ कुकर्म किया. बताया गया है कि कक्षा पांच में पढ़ने वाला 11 वर्षीय छात्र स्कूल में ग्रीष्मकालीन अवकाश होने के कारण शनिवार को पहली बार घर के पास संचालित मदरसा में दीन की तालीम के लिए गया था तथा पहले की वहशी मौलवी ने उसके बचपन को कुचल दिया. मदरसे की छुट्टी होने के बाद मौलवी ने उसे फल खिलाने के बहाने रोक लिया तथा कुकर्म की घटना को अंजाम दिया.

बताया गया है कि कुकर्मी मौलवी ने रोज़ा भी रखा हुआ था तथा छात्र को फल देने के बहाने रोक लिया था. पीड़ित छात्र के पिता द्वारा पुलिस में दी रिपोर्ट में लिखा है कि उनका 11 वर्षीय पुत्र 11 मई शनिवार को इसी वार्ड में स्थित मस्जिद मुहम्मदी मदरसा मुहम्मदिया में पढ़ाई करने के लिए गया था. मदरसे की छुट्टी होने के बाद सभी बच्चे अपने-अपने घर चले गए, लेकिन मदरसे में तैनात मौलवी इकबाल (23) पुत्र सत्तार निवासी बीगोद ने उसके बेटे को फल देने के बहाने मदरसा में ही रोक लिया तथा उसके साथ कुकर्म किया तथा छात्र को धमकी दी कि इस बारे में किसी को बताया तो जान से मार दूंगा.

डरा सहमा हुआ बच्चा दोपहर में घर आया तथा खाना भी नहीं खाया. रात को पीड़ा होने पर उसके साथ हुई घटना की जानकारी उसने परिजनों को दी. इसके बाद सुबह आक्रोशित परिजन मदरसा पहुंचे. यहां परिजनों को देखते ही मौलवी मौके से फरार हो गया. बाद में पुलिस मौलवी की तलाश कर थाने ले आई. पुलिस ने पीड़ित बच्चे के पिता की रिपोर्ट पर मामला दर्ज कर बच्चे का मेडिकल करवाया है तथा मामला दर्ज कर लिया है.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share