पुलिस की नकली वर्दी में बन जाता है दरोगा.. फिर शुरू होता है गुंडागर्दी और पैसे उगाही का खेल .. वर्दी को बदनाम करते जौनपुर के अपराधी

अगर आप को पुलिस की वर्दी में कोई अपराधी अपराध करता दिखे तो यकीनन आप का विश्वास पुलिस के खिलाफ कमजोर होगा और आपकी दृष्टि में पुलिस वाला ही गलत बन जायेगा . लेकिन अक्सर ये आप की नजरों का धोखा भी साबित होता है और जब सच सामने आता है तो ये कहना पड़ जाता है कि हर बार पुलिस गलत नहीं होती है . योगी आदित्यनाथ की उत्तर प्रदेश में सरकार बन जाने के बाद अचानक से ही कभी जातिवाद के नाम पर तो कभी साम्प्रदायिक उन्माद को बहाना बना कर आये दिन सरकार को बदनाम करने की कोशिशें चल रही हैं . उसी में से एक घटना बार बार दोहराई जा रही है उत्तर प्रदेश के जौनपुर जिले में .

इस घटना में वसूली करते अपराधी भले ही पुलिस के न हों लेकिन पुलिस की सुस्ती जरूर उसमे एक बड़ी वजह बन जाती है ऐसी घटनाओं को और अधिक बढने में . ये मामला है उत्तर प्रदेश के जौनपुर जिले का . यहाँ पर शहर के अंतिम छोर पर पड़ने वाले मछलीशहर रोड पर अथराईज पार्किंग टाटा मोटर प्राइवेट लिमिटेड है जो उमरपुर इलाके में आता है . इसी में एक अवैध आफिस लगता है जो कमर्शियल वाहनों से उनकी किश्त न पूरी होने के नाम पर , उनकी बीमा न पूरी होने के नाम पर तो कभी उनके टैक्स न जमा होने के नाम पर जबरन वसूली करता है और उनके वाहनों को कोर्ट एक आदेशो से भी ऊपर जा कर जब्त कर लेता है .

सूत्रों से अब तक मिली जानकारी के अनुसार इस गैंग के शिकार अक्सर ट्रक , कार आदि वाले होते हैं . इसमें एक फाइनेंस कम्पनी का अधिकारी बन जाता है तो दूसरा पुलिस सब इंस्पेक्टर .. काले रंग की स्कार्पियो भी इस अवैध वसूली में प्रयोग होती है जिसकी CCTV फुटेज आराम से निकाली जा सकती है . अन्दर एक टार्चर रूम बनाया गया है जहाँ वाहन के मालिक और ड्राइवर को ले जाया जाता है और उस से गाडी छोड़ देने या पैसे देने की जबरदस्ती की जाती है.. कई बार तो वाहन स्वामियों के साथ बुरी तरह से मारपीट भी की जाती है और उनके पैसे तक छीन लिए जाते हैं .

इस गैंग का सरगना डब्बू सिंह नाम का खुद को बताता है जो 8840365920 मोबाईल नम्बर प्रयोग करता है . फिलहाल कल रात से ये नम्बर बंद आ रहा है . इस गैंग से अवैध वसूली की राशि को कैश में लेने के साथ साथ किसी साधना सिंह के खाते का भी प्रयोग किया है जो भारतीय स्टेट बैंक में खोला गया है . इसके साथी वाहन स्वामी को धमकियां आदि देते हुए अपना मुह बंद रखने या गम्भीर नतीजे भुगतने की चेतावनी भी दिया करते हैं . धमकियों की तमाम कॉल रिकार्डिंग सुदर्शन न्यूज के पास है जिसमे जबरन पैसे लेने के बाद गली गलौज करने और मुह बंद रखने की धमकी दी जाती है . इसी समूह में एक व्यक्ति पुलिस सब इंस्पेक्टर की वर्दी में २ स्टार लगा कर अन्दर बैठा रहता है और खुद को पुलिस वाला बताते हुए जेल भेज देने की धमकी के साथ वसूली में सहयोग करता है . कुल मिला कर ये एक बहुत बड़ा गैंग जौनपुर पुलिस मुख्यालय के एकदम बगल चल रहा है जिसके शिकार कई कार , ट्रक वाले बन चुके हैं.

Share This Post