अभिव्यक्ति की आजादी शायद भारतमाता के खिलाफ बोलने भर के लिए…मुख्यमंत्री के खिलाफ बोलने वाला विधायक गिरफ्तार

देश उस दिन को कभी नहीं भूल सकता है जब देश की नामी यूनिवर्सिटी में भारत तेरे टुकड़े होंगे तथा भारत की बर्बादी के नारे लगाये गये थे तथा इसके बचाव में कहा गया था कि ये अभिव्यक्ति की आजादी है. देश को वो दिन भी याद है जब एक उन्मादी नेता ने कहा था कि भारतमाता डायन है. आश्चर्य होता है कि अभिव्यक्ति की आजादी आड़ में देश के टुकड़े करने की बात कही गयी, भारतमाता को गाली दी गयी लेकिन इसी देश में जब एक विधायक ने अपने राज्य के मुख्यमंत्री तथा उपमुख्यमंत्री के खिलाफ कथित तौर पर आपत्तिजनक टिप्पणी की तो उसको गिरफ्तार कर लिया गया.

मामला तमिलनाडु का है जहाँ ऐक्टर से MLA बने करुनास को पुलिस ने तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के. पलानीस्वामी के खिलाफ कथित तौर पर अपमानजनक टिप्पणी करने की वजह से रविवार को गिरफ्तार कर लिया गया. करुनास पर उपमुख्यमंत्री ओ. पनीरसेल्वम और शहर के एक पुलिस अधिकारी के खिलाफ भी आपत्तिजनक टिप्पणी करने के आरोप हैं.  रिपोर्ट्स के मुताबिक, मुकुलाथोर पुली पदई पार्टी के नेता करुनास ने 16 सितंबर को एक सार्वजनिक रैली के दौरान कथित तौर पर मुख्यमंत्री और अन्य के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी की थी. पुलिस ने बताया कि एक प्रसिद्ध अभिनेता और एक छोटे संगठन के संस्थापक के तौर पर भी जाने जाने वाले करूनास को विशेष दस्ते ने उनके घर से सुबह गिरफ्तार किया गया.

करुनास पर ये भी आरोप है कि करुनास ने 16 सितंबर को हुई जनसभा के दौरान कुछ जाति से संबंधित टिप्पणी भी की थी. इसके अलावा करुनास ने एक पुलिस अधिकारी की ओर इशारा करते हुए कहा था कि युवा अधिकारियों को अपने वरिष्ठ अधिकारियों से सलाह लेनी चाहिए.  पुलिस ने उनको आपराधिक साजिश करने, शत्रुता को बढ़ावा देने, सद्भाव को नुकसान पहुंचाने, हत्या के प्रयास और हत्या की धमकी देने के आरोपों में गिरफ्तार किया है. पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए जाने के बाद विधायक ने कहा कि उन्हें नहीं पता कि पुलिस ने उनके ऊपर हत्या के प्रयास का मामला क्यों दर्ज किया है. उन्होंने कहा कि उनकी गिरफ्तारी अभिव्यक्ति की आजादी पर हमला है.


राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW

Share