Breaking News:

बच्चों की सतर्कता की वजह से पुलिस ने बरामद किए 150 से ज्यादा हथगोले, सेना ने किया निष्क्रिय

त्रिपुरा : उत्तरी त्रिपुरा में पुलिस को जमीन में गड़े 150 से अधिक हथगोले बरामद किए हैं। सेना के विशेषज्ञों ने सभी हथगोलों को निष्क्रिय कर दिया है। जानकारी के मुताबिक, स्कूल जाने वाले बच्चों को गौरनगर में केंद्रीय विद्यालय के नजदीक ग्राउंड में खेलते हुए ये ग्रेनेड मिला, जिसके बाद बच्चों ने इसकी जानकारी अपने परिजनों को दी। परिजनों ने पुलिस को घटना की जानकारी दी। 
पुलिस ने मौके से मिट्टी हटाकर सारे ग्रेनेड को बाहर निकाला और जगह को साफ कराया। त्रिपुरा के उनोकोटि जिले के पुलिस प्रमुख अजीत प्रताप सिंह ने बताया कि मासिमपुर (दक्षिणी असम में सिलचर के निकट) स्थित सेना के डिविजनल मुख्यालय के विशेषज्ञ शुक्रवार को आए और उन्होंने सभी हथगोलों को निष्क्रिय कर दिया। स्थानीय ग्रामीणों का कहना है कि हो सकता कि इन हथगोलों को सन् 1971 के बांग्लादेश मुक्ति संग्राम के दौरान छिपाया गया होगा। 
इतिहासकार विकच चौधरी ने कहा कि बांग्लादेश मुक्ति संग्राम के दौरान त्रिपुरा में छह से सात सेक्टर थे, जहां प्रशिक्षण लेने के बाद बांग्लादेशी मुक्ति योद्धाओं (स्वतंत्रता सेनानी) ने पाकिस्तानी सैनिकों के खिलाफ लड़ाई लड़ी थी। उन्होंने कहा कि नौ महीने तक चला मुक्ति संग्राम बाद में भारत-पाकिस्तान के बीच युद्ध में तब्दील हो गया था, जिसके बाद 16 दिसंबर, 1971 में लगभग 93,000 पाकिस्तानी सैनिकों ने ढाका में समर्पण कर दिया था।
Share This Post