14 साल के बच्चे को टॉयलेट सीट चाटने पर मजबूर किया मुख्तियार ने.. खामोश हुए सेक्यूलरिज्म के नकली ठेकेदार

मध्यप्रदेश के इंदौर ने मानवीय संवेदना को कुचलने तथा इंसानियत को शर्मशार करने वाला मामला सामने आया है जहाँ मुख्त्यार खान ने एक 14 वर्षीय नाबालिग बच्चे को टॉयलेट सीट चाटने पर मजबूर किया. बता दें मुख्तियार खान को पुलिस जमीन हडपने के आरोप में गिरफ्तार किया था. इसके बाद जब पुलिस ने मुख्तियार का मोबाइल चेक किया तो उसके मोबाइल से चौंकाने वाली वीडियो मिली है. इस वीडियो में आरोपी मुख्तयार पुलिस के सामने झूठी गवाही देने के लिए एक नाबालिग लड़के पर दबाव बना रहा है. उसे जबरन टॉयलेट सीट चाटने को मजबूर भी कर कर रहा है.

पुलिस ने ग इस वीडियो को देखने के बाद मुख्तयार पर मामला दर्ज कर लिया है. मीडिया खबरों के मुताबिक SSP रुचिवर्धन मिश्रा ने बताया कि उन्होंने स्थानीय कोर्ट के आदेश पर खान को जमीन खरीदने के लिए झूठे कागजात इस्तेमाल करने के मामले में गिरफ्तार किया था. लेकिन, जब जाँच के दौरान उसके मोबाइल को जाँचा गया, तो उसमें उन्होंने देखा कि मुख्तयार एक 17 साल के बच्चे पर अत्याचार कर रहा है. साथ ही टॉयलेट सीट चाटने को मजबूर कर रहा है.

SSP के बयान के मुताबिक, मुख्तयार खान और उसके साथी नाबालिग लड़के को पुलिस के सामने झूठी गवाही देने के लिए मजबूर कर रहे थे. वे चाहते थे कि 2 महीने पहले मुख्तयार खान के बेटे पर हुए जानलेवा हमले के संबंध में नाबालिग पुलिस के सामने दो अमीर घरों के बच्चों पर भी आरोप लगाए. ताकि बाद में खान उन बच्चों के घरवालों से समझौते के नाम पर पैसे निकलवा सके. जब बच्चे ने मुख्तियार के दवाब में आने से इंकार कर दिया तो मुख्तियार ने उससे जबरन टॉयलेट सीट चटवाई.

SSP रुचिवर्धन मिश्रा का कहना है कि पुलिस ने मुख्तयार खान के बेटे पर हुए हमले के मामले में पहले ही चार लोगों पर IPC धारा 307 (हत्या की कोशिश) के तहत FIR दर्ज कर ली है. पुलिस ने मुख्तयार खान पर पॉक्सो एक्ट और आईपीसी IT एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया है. पुलिस मामले की जांच कर रही है. जिस बच्चे को वह अपने बेटे व भतीजे पर हुई हमले की घटना में जुर्म कबूलने के लिए पीट रहा था, पुलिस उसके घर पहुंची और परिवार को पूरी सुरक्षा देने का भरोसा दिलाया. इसके बाद वह बच्चा थाने आया और गुंडे मुख्तियार के खिलाफ धारा 363, 365, 323, 327, 332, 294,506 पोस्को एक्ट, 74, 84, 82, जेजे एक्ट, आईटी एक्ट और धारा 307 में केस दर्ज करवाया.

Share This Post