चुनाव से पहले चला हिंदूवादी नेताओं के नरसंहार का सिलसिला.. ममता राज में गोलियों से भून डाला गया पटानू मंडल

चुनावों से पहले ममता शासित पश्चिम बंगाल में हिंदूवादी नेताओं नेताओं के नरसंहार का सिलसिला एक बार पुनः शुरू हो गया है. वो पश्चिम बंगाल, जहाँ की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी खुद को असहिष्णुता के खिलाफ आवाज उठाने वाला सबसे बड़ा योद्धा मानती हैं लेकिन उनके राज में उनके राजनैतिक विरोधियों की ह्त्या का जो सिलसिला काफी लंबे समय पहले शुरू हुआ था, वह थमता हुआ नजर नहीं आ रहा है. अफ़सोस इस बात है कि ममता राज की इस अराजकता पर न तो कोई मानवाधिकारी बोल रहा है और न ही कोई बुद्धिजीवी.

इंदिरा से शक्ल मिलने पर अगर सत्ता मिलती तो चीन में हर नागरिक राष्ट्रपति होता.. बीजेपी नेता का ये बयान बना सुर्खियाँ

खबर के मुताबिक़, पश्चिम बंगाल में भाजपा के एक कार्यकर्ता की गोली मारकर हत्या कर दी गई है. भाजपा के इस कार्यकर्ता की ह्त्या का आरोप सत्तारूढ़ टीएमसी पर है. इस घटना के बाद भाजपा समर्थकों ने माल्दा जिले के हरीशचंद्रपुर क्षेत्र में सड़क जाम कर दी. पुलिस के पास दर्ज कराई शिकायत के अनुसार 28 साल के बीजेपी कार्यकर्ता पटानू मंडल अपनी पत्नी और आठ महीने की बेटी के साथ सो रहे थे तभी कुछ लोग उनके घर आए और उन्होंने गोलियां चलानी शुरू कर दी.

राहुल गांधी का बेहद करीबी नेता बीजेपी में हुआ शामिल.. हैरान हुए कांग्रेसी भी

माल्दा के बीजेपी जिला अध्यक्ष संजीत मिश्रा ने आरोप लगाते हुए कहा, ‘मंडल हरिश्चंद्रपुर पुलिस स्टेशन में एक नागरिक पुलिस स्वयंसेवक के रूप में काम करता था. इससे पहले तृणमूल कार्यकर्ताओं ने उसे एक झूठे मामले में फंसाया और उसकी नौकरी चली गई. इसके बाद वह जिले में भाजपा नेता बन गया. वह एक रैली का आयोजन करने वाला था. लेकिन इससे पहले ही तृणमूल समर्थित गुंडों ने मंडल की हत्या कर दी.’

पाकिस्तान में अपनी ही नाबालिग बहन के तीन बलात्कारी भाई गिरफ्तार. बहन को मुह बंद रखने के लिए दिया था “पवित्र किताब” का वास्ता

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW