दलित युवक को भून डाला गोलियों से.. वो दलित युवक जो नामजद था मुजफ्फरनगर दंगों में

उत्तर प्रदेश का मुजफ्फरनगर उस समय दहल उठा जब 2013 मुजफ्फरनगर दंगों के आरोपी दलित युवक रामदास की बाइक सवार दो नकाबपोश युवकों ने गोली मारकर हत्या कर दी. वर्ष 2013 में मुजफ्फरनगर में दंगे के दौरान कुटबा में भी दंगा हुआ था. रामदास भी इसमें आरोपी था। हत्या की सूचना से पुलिस प्रशासन में हड़कंप मच गया. एसपी देहात कई थानों की पुलिस के साथ गांव में पहुंचे और मामले की जानकारी ली. इस सनसनीखेज वारदात से इलाके में दहशत फैल गई है.

आपको बता दें कि मुजफ्फरनगर के शाहपुर में गांव कुटबा निवासी रामदास उर्फ काला (42) पुत्र खजान अपने घर के आंगन में सो रहा था और उसके परिजन खेतों पर गए हुए थे. उसके तीन बच्चे नेहा, विशाल व टिंकू घर की छत पर थे. उसी समय बाइक सवार दो नकाबपोश रामदास के घर पहुंचे, जिनमें से एक युवक घर में गया और बरामदे में सो रहे रामदास की कनपटी पर तमंचा रखकर गोली मार दी, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई. इसके बाद हत्यारोपी साथी की पहले से स्टार्ट बाइक पर बैठकर फरार हो गया. गोली की आवाज सुनकर छत पर मौजूद तीनों बच्चे नीचे आए और रामदास को लहूलुहान देख शोर मचाया, तब लोगों को घटना की जानकारी हुई.

सूचना पर एसपी देहात आलोक शर्मा, सीओ बुढ़ाना हरिराम यादव फुगाना व भौराकलां थाना पुलिस के साथ मौके पर पहुंचे और बच्चों से घटना की जानकारी ली. सीओ हरिराम यादव ने बताया कि देर शाम तक घटना की तहरीर नहीं दी गई है. पुलिस घटना की जांच पड़ताल कर रही है. वहीं दलित युवक रामदास की ह्त्या के बाद क्षेत्र में तनाव की स्थिति पैदा हो गई है.

Share This Post