उन्मादी मोहम्मद आज़ाद के कहर से दहल उठी देश की राजधानी दिल्ली,, हिन्दू परिवार पर क्रूरतम तालिबानी अंदाज में चाकुओं से किया हमला, महिला की मौत तो पति व बेटा गंभीर रूप से घायल


बुधवार की शाम देश की राजधानी दिल्ली मजहबी उन्मादी मोहम्मद आजाद खान के कहर के दहल उठी जब उसने पड़ोसी सुनीता तथा उसके परिवार पर क्रूरतम तालिबानी अंदाज में चाकुओं से हमला कर दिया. मोहम्मद आजाद के ताबड़तोड़ चाकुओं के वार से महिला की जान चली गई तो वहीं उसके पति तथा नाबालिग बेटा गंभीर रूप से जख्मी हो गया. क्रूरतम हमले को अंजाम देने के बाद उन्मादी मोहम्मद आजाद मौके से फरार हो गया. मृतका के पति तथा नाबालिग बेटे को अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां उनकी स्थिति गंभीर बनी हुई है. वारदात के बाद क्षेत्र का माहौल तनावपूर्ण है.

घटना बुधवार शाम करीब 7.30 बजे की है. पश्चिम दिल्ली के ख्याला की डीडीए कॉलोनी में सुनीता नाम की महिला अपने परिवार के साथ रहती थी. चार दिन पहले सुनीता के बच्चे की बोतल को लेकर उसका पड़ोसी मोहम्मद आजाद खान से झगड़ा हो गया था. बुधवार को आज़ाद खान फिर सुनीता से झगड़ने लगा. दोनों के बीच इस बहस को देख सुनीता का पति वीरू और बेटा आकाश भी वहां पहुंच गया. इसके बाद आजाद खान ने सुनीता पर चाकू से बुरी तरह वार कर दिए, जिससे वह खून से लथपथ हो गई. जब सुनीता के पति और बेटे ने बचाने की कोशिश की तो उन्मादी आज़ाद खान ने उन्हें भी नहीं बख्शा और दोनों पर हमला बोल दिया और उन पर चाकू से कई वार किए. बताया जा रहा है कि आरोपी ने सुनीता के पति वीरू पर इतना जोरदार हमला किया है कि उसके पेट को बुरी तरह विक्षत कर दिया, उसकी अंतड़ियां बाहर निकल आईं.

पुलिस के मुताबिक, मृतका की पहचान सुनीता के रूप में हुई है. जबकि घायलों में मृतका के 41 साल के वीरू और बेटा आकाश हैं. पुलिस ने कहा कि शाम करीब साढ़े सात बजे मामूली बात पर इलाके में रहने वाली सुनीता और आरोपी का झगड़ा हुआ. महिला ने इसकी जानकारी अपने पति और बेटे को दी तो वो भी वहां पहुंच गए. इसके बाद आरोपी ने उनपर चाकू से कई बार वार किया. पुलिस ने बताया कि पीड़ितों को ख्याला के गुरु गोविंद सिंह अस्पताल ले जाया गया जहां सुनीता को मृत घोषित कर दिया गया, जबकि उसके पति और बेटे की हालत गंभीर बताई जा रही है. पुलिस का कहना है कि आरोपी आजाद की तलाश की जा रही है जो कि मौके से फरार हो गया था.

पुलिस का कहना है कि आरोपी आजाद का अपनी पत्नी से झगड़ा चल रहा था और उसकी पत्नी मकान के ऊपरी हिस्से में रहती थी जबकि आजाद मकान के निचले हिस्से में रहता था और बैटरी रिपेयरिंग का काम करता था. जबकि मृतका सुनीता का पति वीरू चाय की दुकान चलाता है और उसके चार बच्चे हैं. वीरू के भाई छत्रपाल का आरोप है कि आरोपी आजाद बार-बार झगड़ा करता रहता था और बदमाश किस्म का आदमी है. फिलहाल पुलिस ने केस दर्ज कर लिया है और फरार आरोपी आजाद की तलाश कर रही है. उधर देश की राजधानी में सरेआम क्रूरतम वारदात के बाद लोगों में आक्रोश है तथा हिंदूवादी संगठनों ने जल्द आजाद खान की गिरफ्तारी की मांग की है.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...