पता नहीं कि अहमद ब्याज के पैसे को क्या समझता था कि पहले तो कर्ज ले लिया फिर ब्याज मांगने पर क़त्ल कर डाला सेक्यूलर जंगबहादुर का

उनका नाम जंगबहादुर था तथा उनके अंदर आज की कथित धर्मनिरपेक्षता कूट कूट कर भरी हुई थी. गाँव के ही अहमद से उनके काफी घनिष्ठ संबंध थे तथा अहमद का उनके घर आना जाना था. फिर अहमद ने जंगबहादुर से ब्याज पर 10 हजार रूपये उधार मांगे तो जंगबहादुर ने दे दिए. इसके बाद वो हुआ जो तालिबान तथा ISIS के राज में होता है. जंगबहादुर ने अहमद से पैसे मांगे तो अहमद तथा उसका परिवार भड़क उठा तथा क्रूरतम तरीके से जंगबहादुर की ह्त्या कर दी.

विश्व हिन्दू परिषद् के जुलूस पर फेंका पत्थर तो भड़क उठे भगवा धारी.. ये जगह कश्मीर नहीं थी

मामला उत्तर प्रदेश के महराजगंज के घुघली क्षेत्र के बरवां चमईनिया गाँव का है. खबर के मुताबिक़, रविवार शाम बरवां चमईनिया निवासी जंग बहादुर राय गांव की रहने वाली शाहजहां पत्नी अहमद के दरवाजे पर सूद का रुपया लेने गए थे. इस दौरान उसने पैसा देने में आनाकानी की तो दोनों के बीच विवाद होने लगा. इसके बाद अहमद तथा उसकी पत्नी शाहजहाँ ने बच्चों के साथ जंगबहादुर पर लाठी, डंडे व धारदार हथियार से हमला कर घायल कर दिया.

प्रभु श्री हनुमान जन्मोत्सव की संसार के समस्त सनातनियों को हार्दिक शुभकामनाएं साथ ही उनके आराध्य श्रीराम के भव्य मंदिर निर्माण का संकल्प भी

इसके बाद अहमद तथा उसके परिजन जंगबहादुर को बगीचे में खींच ले गये, वहां उनके साथ जमकर मारपीट की. इसके बाद उन्मादी अहमद तथा उसके परिजनों पे जंगबहादुर पर कुल्हाड़ी से वार कर उन्हें काट डाला तथा शव को बगीचे में  छोड़कर चले गये. सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार कर लिया. सोमवार को मृतक के बेटे की तहरीर पर पुलिस ने गांव के अहमद, शाहजहां खातून पत्नी अहमद, इस्तियाक, समसुल, समरूल व फिरोज पुत्रगण अहमद के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया. शाहजहां व फिरोज पुलिस की गिरफ्त में हैं. दोनों से पूछताछ हो रही हैं.

19 अप्रैल: बलिदान दिवस पर नमन है देश के दूसरे खुदीराम बोस अनंत लक्ष्मण कन्हेरे को, वो योद्धा जो जैक्सन को मार कर 19 साल में ही अमर हो गया

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने व हमें मज़बूत करने के लिए आर्थिक सहयोग करें।

Paytm – 9540115511

Share This Post