Breaking News:

नेशनल प्लेयर को फोन पर मिला तीन तलाक, कसूर सिर्फ इतना था की बच्‍ची को दिया जन्‍म

मुरादाबाद : यूपी के मुरादाबाद में अमरोहा जिले में तीन तलाक का मामला सामने आया है। जहां यूपी में नेशनल लेवल की नेटबॉल प्लेयर तीन तलाक की मार झेल रही है। शुमेला जावेद नाम की इस प्लेयर को उसके पति ने फोन पर तीन बार ‘तलाक’ कहकर तलाक दे दिया।

शुमेला का कसूर सिर्फ इतना था कि उसने एक बच्‍ची को जन्‍म दिया था। बता दें कि पति से तलाक मिलने के बाद शुमेला जावेद अमरोहा में अपने माता-पिता के यहां रही हैं। पीड़िता ने आरोप लगाया कि पति ने अपने परिजनों के साथ मिलकर उसका शारीरिक व मानसिक शोषण किया। इस दौरान जब पीड़िता प्रेग्नेंट हो गई तो उसके पति ने उसका भ्रूण लिंग चेकअप कराया।

जिसमें पेट में लड़की होने का पता चला तो ससुराल वालों ने उनसे मुंह मोड़ लिया और मायके वापस भेज दिया था। इसके साथ ही पीड़िता ने ससुरालवालों पर दहेज के लिए परेशान करने का आरोप लगाया है। पीड़िता का कहना है कि शादी के कुछ ही महीने बाद ससुराल वाले दहेज के लिए परेशान करने लगे। दहेज की मांग पूरी न होने पर उन्हें जलाकर मारने की कोशिश भी की गई।

इसके अलावा शुमायना कहती हैं कि 25 अप्रैल, 2015 को उन्होंने ससुरालियों के खिलाफ दहेज उत्पीड़न का मुकदमा दर्ज कराया तो पति ने तलाक दे दिया। तभी से वह न्याय के लिए भटक रही हैं। शुमायना ने अब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मदद की गुहार लगाते हुए कहा कि उन्हें उम्मीद है कि योगी सरकार न्याय जरूर दिलाएगी। उन्होंने इस सिलसिले में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को खत भी लिखा है।

गौरतलब है कि ट्रिपल तलाक के मुद्दे पर देश भर की हजारों मुस्लिम महिलाओं ने इस प्रथा को खत्म करने की मांग लेकर हस्ताक्षर अभियान भी चला चुंकी हैं। वहीं, ऑल इंडिया मुस्लिम पसर्नल लॉ बोर्ड का दावा है कि शरीयत तीन तलाक की प्रथा को वैध बताती है। इसके तहत एक मुस्लिम पति अपनी पत्नी को महज तीन बार ‘तलाक’ शब्द बोलकर तलाक दे सकता है।

Share This Post