निर्मल बाबा पर दर्ज हुआ मुकदमा क्योंकि जिस ने खीर खाई उस पर नहीं हुई कृपा

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने चर्चित निर्मल बाबा को धोखाधड़ी के एक मुकदमे की सुनवाई पर रोक लगाकर मामले में बड़ी राहत दी है। मुकदमे में उनके ऊपर आरोप था

कि उन्होंने अपने पास आने वाले एक व्यक्ति को कहा था कि खीर बना कर खाओ और खिलाओ तो कृपा मिलेगी लेकिन पीड़ित खीर खाने से बीमार हो गया।

जिसके बाद उसने निर्मल बाबा पर केस कर दिया। इस मामले में जब पुलिस ने चार्जशीट दाखिल की और मामला कोर्ट में पहुंचा तो मजिस्ट्रेट ने निर्मल बाबा को

समन जारी कर दिया।

ये मुकदमा मेरठ के एसीजेएम कोर्ट में दाखिल हुआ था।
दरअसल, हरीश सिंह नाम के एक व्यक्ति ने निर्मल बाबा के दरबार में अपनी समस्या बताई। तो निर्मल बाबा ने बताया कि उसकी कृपा रुकी हुई है, इसके लिए

उसे खीर बनाकर खाना होगा और दूसरे लोगों में भी खीर को बांटना होगा। आरोप है कि हरीश ने जब खीर बनाकर खाई और बांटी तो वो बीमार हो गया। उसने

आरोप लगाया कि निर्मल बाबा के निर्देशों का पालन करने से उसे फायदा होने की बजाए नुकसान हो गया और उसकी तबीयत बिगड़ गई।

इस पर हरीश ने मेरठ

में निर्मल बाबा और उनकी पत्नी के खिलाफ एफआईआर दर्ज करा दिया।
धोखाधड़ी केस मामले में कोर्ट ने निर्मल बाबा के विरुद्ध समन जारी किया तो निर्मल बाबा की ओर से हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की गई और मुकदमे को खत्म

करने की मांग की गई, जिस पर हाईकोर्ट ने हरीश सिंह समेत यूपी सरकार को नोटिस जारी किया है और उसे जवाब दाखिल करने को कहा है। मामले की अगली

सुनवाई 6 फरवरी को होगी, तब तक के लिए हाईकोर्ट ने निर्मल बाबा पर चल रहे मुकदमे की सुनवाई पर रोक लगा दी है।

Share This Post

Leave a Reply