5 वर्ष पहले नीटू का कत्ल कर के भागा इस्लामुद्दीन सोच रहा था कि पुलिस उसे भूल चुकी है… ये उसकी भूल थी

योगी सरकार में पुराने मामलो को कुरेदा जा रहा है और आरोपियों को गिरफ्तार किया जा रहा है। कोई भी आरोपी अब बच नहीं पाएगा। योगी सरकार आते ही यूपी के अच्छे दिन शुरू हो गये है। धीरे धीरे पुलिस चोर, बदमाशो और भ्रष्टाचरियो का खात्मा करती जा रही है। कोई भी मुज़रिम अब कानून की नज़रो से नहीं बच पाएगा चाहे वो कितना भी शातिर क्यों न हो। यूपी पुलिस ने 5 वर्ष पुराने मामले का खुलासा किया और आरोपी को हिरासत में ले लिया।

यह मामला थाना मुंडाली के मेघराजपुर निवासी नीटू पुत्र छोटेलाल के हत्याकांड का है जिसकी 5 वर्ष पूर्व गला दबाकर हत्या कर दी गयी थी। नीटू पुत्र छोटेलाल की हत्या करने वाले इस्लामुद्दीन को पुलिस ने धर दबोचा। बता दे कि 5 वर्ष पूर्व 29 जुलाई 2013 को नीटू की हत्या कर दी गयी थी।

बताया जा रहा है कि 29 जुलाई 2013 को छोटेलाल मेडिकल से दवाई लेकर घर वापस जा रहा था. तभी इस्लामुद्दीन ने डा. शराफत, यामीन, नफीस, नौशाद तथा इसरत के साथ मिलकर उसी पकड़ लिया और उसी ये दरिंदे पास के रछौती के जंगल मे ले गए जहां इन्होने नीटू पुत्र छोटेलाल का गला दबाकर उसकी हत्या को अंजाम दिया।

इतना ही नहीं इन हैवानो की हैवानियत की हद तब पार हुई जब पहचान मिटाने के लिए इन लोगों ने नीटू पुत्र छोटेलाल के चेहरे व छाती पर तेजाब डाल दिया था जिससे कोई नीटू पुत्र छोटेलाल को पहचान न सके और वहा से फरार हो गए है।

दरअसल ,एक व्यक्ति को रछौती के जंगल में सड़ा-गला शव पड़ा मिला तो तुरंत उसने मुंडाली पुलिस को इतल्ला किया। पुलिस को मृतक के पेंट की जेब में रखे पर्स से उसका पहचान पत्र व उसके घर का मोबाइल नंबर मिला था.

 जिससे उसके पहचान मेघराजपुर निवासी नीटू पुत्र छोटेलाल के रूप में हुई थी। मुंडाली पुलिस ने शुक्रवार शाम 5 बजे मुख्य आरोपी इस्लामुद्दीन पुत्र मुस्ताक को जंगल से गिरफ्तार कर घटना का खुलासा किया है। पुलिस अधिकारियों ने इस हत्याकांड का खुलासा करते हुए बताया कि इस्लामुद्दीन ने गांव के 5 अन्य लोगों के साथ मिलकर हत्या करने की बात कुबूल कर ली है। आरोपी को कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया गया है।

Share This Post

Leave a Reply