Breaking News:

हवस की आग में जलते शादीशुदा दरिन्दे रिजवान को नॉएडा पुलिस ने भेजा सलाखों के पीछे.. बताया कि वो क्यों करना चाहता था वो एक हिन्दू लड़की का बलात्कार

ये सिर्फ वो दरिंदा नहीं था जो हवस की आग में धूं धूं कर के जल रहा था बल्कि ये वो साजिशकर्ता था जो समाज में फैलाना चाह रहा था तनाव और सम्भवतः खेलना चाहता था साम्प्रदायिकता का गंदा खेल. इसके कुकर्म की शिकार जहाँ एक लड़की होते होते बची तो वहीँ समाज भी बचा एक सम्भावित तनाव से जिसकी इसने पूरी तैयारी कर रखी थी ..लेकिन नॉएडा पुलिस के सक्रिय और संतुलित कार्य के बाद इसके दोनों मंसूबे ध्वस्त हो गये और ये हवसी दरिंदा भेज दिया गया अपनी असली जगह अर्थात जेल..

विदित हो कि हवस की आग में जलते इस दरिन्दे का नाम है रिजवान खान जिसके अब्बा का नाम इकराम अली है . ये प्यावाली कोतवाली क्षेत्र जारचा गौतमबुद्ध नगर का रहने वाला है .. इस अपराधी को जारचा पुलिस ने एक महिला से दुष्कर्म के प्रयास में धारा 376, 511, 506 के तहत जेल भेजा है .. इस मामले में पीडिता दूसरे धर्म से है लेकिन हिन्दू समाज की समझदारी और कानून के साथ सरकार में पूरा विश्वास जताने की आदत के चलते कोई साम्प्रदायिक तनाव नहीं फ़ैल पाया .

इसके साथ ही नॉएडा पुलिस की तत्परता भी इसकी एक वजह रही .. मिली जानकारी के अनुसार गत 1 सितम्बर को पीडिता अपने घर की छत पर  टहल रही थी, तभी आँखों में दरिंदगी लिए आरोपित रिजवान ने महिला को अकेला देख कर पकड़ लिया. महिला का शोर सुनकर पड़ोसी व परिजन आ गए जिसके बाद हवसी रिजवान फरार हो गया. मामले की सूचना पुलिस को दी गई तो पुलिस ने फ़ौरन सक्रियता दिखाते हुए रिजवान को ज्यादा दूर और ज्यादा समय भागने नहीं दिया और कोतवाली क्षेत्र से दबोच लिया .

रिजवान को जेल भेज दिया गया है और पुलिस ने पीडिता के साथ क्षेत्र की बाकी अन्य महिलाओं को भी रिजवान जैसे अन्य दरिंदो से सुरक्षा का भरोसा दिलाया है.. ख़ास बात तो ये है कि सूत्रों से मिल रही जानकारी के अनुसार पुलिस के सामने आरोपित रिजवान ने जुर्म इकबालिया में कहा “ये लडकी मुझे बहुत अच्छी लगती थी, इसलिए मैंने ऐसा करने का प्रयास किया” जबकि इस हवसी का निकाह बहुत पहले ही हो चुका है ..जारचा कोतवाली प्रभारी अनिल कुमार राजपूत की सक्रियता व त्वरित कार्यवाही से समाज में संतोष जताया जा रहा..

Share This Post