सुदर्शन की मुहिम फिर से सफल… बुलंदशहर के गौ हत्यारों पर लगी रासुका

उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में गोकशी को लेकर सुदर्शन ने जिस मुहिम को चलाया था, आख़िरकार वह अंजाम तक पहुँच गई. बुलंदशहर के स्याना के महाव गांव में हुई गोकशी के मामले में प्रशासन ने बड़ी कार्रवाई तीन गोहत्यारों पर रासुका (राष्ट्रीय सुरक्षा कानून) लगा दिया है. गोकशी के आरोपियों में अजहर पुत्र तकी खां, निवासी मोहल्ला कैतवाला स्याना, नदीम उर्फ नदीमुद्दीन पुत्र बाबू खां उर्फ जहीरुद्दीन निवासी मोहल्ला चैधरियान स्याना और महबूब अली पुत्र अब्दुल मारुफ निवासी-मोहल्ला चोधरियान स्याना पर डीएम ने ये कार्रवाई की है.

जिलाधिकारी अनुज कुमार झा ने बताया कि ये तीनों आरोपी स्याना अपने साथियों के साथ गोकशी में संलिप्त पाए गए हैं. आरोप है कि इन्होंने गांव महाब और नयाबांस में इन लोगों के इस कृत्य से लोगों की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंची. जिलाधिकारी अनुज कुमार झा ने बताया कि ऐसी संभावना है कि ये आरोपी जेल से छूटने के बाद साक्ष्यों से छेड़छाड़ कर सकते हैं. इसलिए तीनों आरोपियों को एनएसए (राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम) में निरुद्ध किया गया है.

जिलाधिकारी अनुज झा ने कहा, ‘‘तीन आरोपियों ने जमानत के लिए आवेदन दिया था और उन्हें जमानत मिलने की संभावना थी. इस बात को ध्यान में रखते हुए, उन पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून लगाया गया है.’’ झा ने एक बयान में कहा, ‘‘लोक व्यवस्था और शांति कायम रखते हुए तीनों को रासुका की धारा तीन की उपधारा तीन के तहत नामजद किया गया है. कार्रवाई पुलिस रिपोर्ट के आधार पर की गई जिसमें कहा गया कि तीनों गैरकानूनी तरीके से धन कमाने के लिए गोकशी में संलिप्त थे.’’

जिलाधिकारी अनुज कुमार झा ने कहा, ‘‘उनके कृत्यों ने महाव और नयाबांस गांवों में हिन्दुओं की भावनाओं को चोट पहुंचाई जिसके बाद हिंसा हुई और इसमें लोगों ने लाठियों तथा धारदार हथियारों से पुलिस पर हमला किया और निरीक्षक सुबोध कुमार सिंह की मौत हुई. इससे लोक व्यवस्था और सांप्रदायिक सौहार्द का माहौल बिगड़ा.’’

Share This Post