वरिष्ठ IPS अमिताभ ठाकुर की पत्नी नूतन ठाकुर ने अखिलेश पर लगाया सनसनीखेज आरोप.. वो आरोप जिसने पोल खोल दी अखिलेश की नैतिकता की

शायद ही कोई होगा जो तेजतर्रार आईपीएस अधिकारी अमिताभ ठाकुर को न जानता हो. वही आईपीएस अमिताभ ठाकुर जिन्होंने सपा सरकार की गुंडागर्दी के आगे झुकने से इंकार कर दिया था. अपनी ईमानदारी के कारण आईपीएस अमिताभ ठाकुर ने काफी परेशानिया भी झेली लेकिन उन्होंने वर्दी के स्वाभिमान को झुकने न दिया. अब अमिताभ ठाकुर की पत्नी तथा सामाजिक कार्यकर्ता नूतन ठाकुर ने समाजवादी पार्टी के प्रमुख तथा उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पर बड़ा सनसनीखेज आरोप लगाया है. अखिलेश यादव पर नूतन ठाकुर के इस आरोप ने अखिलेश यादव की तथाकथित नैतिकता को बेनकाब कर दिया है.

नूतन ठाकुर ने पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पर ये आरोप यश भारती पुरस्कारों के बटवारे को लेकर लगाए हैं. एक आरटीआई का हवाला देते हुए उन्होंने आरोप लगाया है कि अखिलेश यादव ने मनमाने ढंग से 53 लोगों को यश भारती पुरस्कार देने की सिफारिश की थी. जबकि स्क्रीनिंग कमेटी द्वारा भेजी गई सूची में इनका कोई जिक्र नहीं है. इसके बाद फिर छह नए नाम, फिर तीन, फिर 29 नवंबर 2016 को आइएएस सुहास एलवाई समेत दो तथा 19 दिसंबर 2016 को सात नए नाम मनमाने ढंग से बढ़ाए गए. नाम बढ़ाये जाने का कोई कारण या आधार पत्रावली में नहीं है.

नूतन ठाकुर ने आरटीआई के हवाले से कहा है कि 2016-17 में यश भारती पुरस्कारों के लिए 20 अक्टूबर, 2016 को स्क्रीनिंग कमेटी ने संस्कृति मंत्री अरुण कुमारी कोरी की अध्यक्षता में हुई बैठक के बाद 54 नामों की संस्तुति की थी. जब यह सूची अखिलेश यादव के पास पहुंची तो उन्होंने बिना किसी कारण के कई नामों को काटकर अपनी पसंद के लोगों के नाम जोड़ दिए. इनमें आगरा के जरदोजी कला के शमीमुद्दीन समेत कई नाम हटाए व 23 नए नाम जोड़ दिए. नूतन ठाकुर ने इस आधार पर अखिलेश यादव पर सत्ता का दुरुपयोग करने का गंभीर आरोप लगाया है.

Share This Post