पत्थरबाजी, झूठे मुकदमे के बाद अब गौ हत्या में सामने आए मुस्लिम महिलाओं के नाम… जानिए कौन है वो पहला नाम

जहां गाय की सुरक्षा के लिए बीफ बैन का कानून बनाया गया है वही कुछ लोग चोरी छिपे गैरकानूनी तरीके से गौ मांस की तस्करी करने की कोशिश कर रहे हैं। लेकिन पुलिस और गौरक्षकों की सर्कता की वजह से तस्कर अपने काम में सफल नहीं हो पाते हैं। अब खुद को बचाने के लिए मजहब के कुछ ताथकथित लोग महिलाओं को आगे कर रहे हैं। पहले तो यूपी पुलिस और गौरक्षकों को गौकशी के आरोप में फंसाया जाता था और अब इन लोगों ने महिलाओं को गौकशी के लिए आगे कर दिया है।

ये तथाकथित लोग महिलाओं की आड़ में गौ तस्करी और गौकशी की वारदातों को अंजाम दे रहे हैं। एक ऐसा ही मामला सामने आया है भवानीपुर से, जहां कुछ लोग महिलाओं की आड़ में गौकशी को अंजाम दिया। सूचना मिलने के बाद पुलिस तुरंत ही वहां पहुंची और उसे गौकशी के आरोप में गिरफ्तार कर लिया। पुलिस को सूचना मिली थी कि भवा नीपुर में सायर उर्फ सपेरा के घर पर एक महिला समेत चार लोग गौकशी करके उसका मांस बेच रहे है।
तभी पुलिस वहां पहुंच गई और पुलिस को आते देख मौके से चार लोग फरार हो गए। लेकिन पुलिस ने महिला को पकड़ लिया और उसे जेल भेज दिया। पकड़ी गई महिला का नाम फात्मा बताया जा रहा है और फरार आरोपियों के नाम सायर उर्फ सपेरा, सपेरा की पत्नी नाजरा, हसरत अली, इस्माइल कुरैशी है। पुलिस ने घटनास्थल से गौ के कटे हुए अवशेष भी बरामद किए है और साथ ही करीब 50 किलो मांस और छुरा, कुल्हाड़ी, कांटा, बाट आदि उपकरण बरामद किए हैं। फिलहाल, पुलिस ने इस मामले की कार्यवाही शुरू कर दी है और आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है।
Share This Post

Leave a Reply