Breaking News:

JNU को कलंकित करने वाला कन्हैया अब पटना AIIMS में बनाया गया है अभियुक्त… ये है पूरा मामला


देश की प्रतिष्ठित केन्द्रीय यूनिवर्सिटी JNU में हिंदुस्तान की बर्बादी तथा भारत के टुकड़े करने वाले नारों का पैरोकार वामपंथी कन्हैया कुमार जो खुद को अभिव्यक्ति की आजादी का पक्षकार बताता है, जो संविधान तथा क़ानून की बात करता है, उस कन्हैया कुमार की गुंडागर्दी सामने आयी है. आपको बता दें कि बिहार की राजधानी पटना स्थित एम्स हॉस्पिटल के प्रशासन ने जेएनयू के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई है. एम्स प्रशासन का आरोप है कि कन्हैया और उनके समर्थकों ने जूनियर डॉक्टरों से मारपीट की है.

खबर के मुताबिक़, कन्हैया कुमार पटना एम्स में सीपीआई की छात्र इकाई एआईएसएफ के महासचिव सुशील कुमार को देखने के लिए आया था. इस दौरान उसके समर्थकों का जूनियर डॉक्टर्स के साथ विवाद हो गया. कन्हैया कुमार व उसके साथ सभी लोग जबरदस्ती वॉर्ड में घुसने की कोशिश करने लगे, जिससे हॉस्पिटल में अव्यवस्था की स्थिति हो गई. जूनियर डॉक्टरों ने जब कन्हैया और समर्थकों का बाहर जाने को कहा तो वह लोग उग्र हो गये तथा डॉक्टर्स के साथ मारपीट शुरू कर दी. यही नहीं कन्हैया कुमार तथा उसके गुंडों ने  महिला नर्सों और डॉक्टरों से भी बदमीजी की.

इस मामले को लेकर एम्स प्रशासन ने पटना के फुलवारी शरीफ पुलिस स्टेशन में कन्हैया कुमार, एआईएसएफ नेता सुशील कुमार के लाफ नामजद और 80-100 अज्ञात समर्थकों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई है. कन्हैया कुमार तथा उसके साथियों की सरेआम गुंडागर्दी के विरोध में जूनियर डॉक्टर्स ने हड़ताल कर दिया. हड़ताली डॉक्टरों ने सोमवार को काम नहीं किया और आरोपियों के खिलाफ एफआईआर कराने तथा अपनी सुरक्षा की मांग को लेकर डटे रहे. पुलिस ने मामले में एफआईआर दर्ज कर लिया है तथा कार्यवाही की बात कही है, इसके बाद डॉक्टर्स ने अपनी हड़ताल ख़त्म की.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...