अतीक अहमद को मिट्टी चटा देने पर आमादा योगी सरकार…..खास शूटर पुलिस की गिरफ्त में


अचानक ही सत्ता बदली, फिर प्रदेश की आबोहवा बदली, फिर प्रशासन बदला और योगी आदित्यनाथ जी को गद्दी मिली। जिसके बाद योगी राज में माफिया किस्म के समाजवादी पार्टी के बाहुबली नेता व पूर्व सांसद अतीक अहमद और उनके परिवार पर क़ानून का शिकंजा लगातार कंसता जा रहा है।

अतीक तो पहले से ही जेल में बंद है पर अब उसके साथी भी कानून के निशाने पर है। दरअसल, अतीक अहमद के खास शूटर और 12 हजार का इनामी बदमाश जुल्फिकार उर्फ तोता को पुलिस और क्राइम ब्रांच की टीम ने धर दबोचा। तोता को दबोचने के बाद पुलिस असमंजस में थी कि वह तोता ही है या फिर उसका साथी दुर्रानी।

दरअसल, पुलिस और क्राइम ब्रांच में तोता को पहचानने वाले कम ही लोग हैं। तोता ने ढाढ़ी ली थी जबकि सिर से बाल हटा दिए थे। ऐसे में करीब घंटे भर तक पुलिसवाले गफलत में रहे। बाद में मुखबिरी करने वाले परिवार ने ही आकर उसकी पहचान की तो पुलिस उसे अपने साथ ले गई।

पुलिस का कहना है कि बुधवार रात करीब साढ़े तीन बजे मुखबिर से सूचना पर कसारी-मसारी में धूमनगंज थाने और क्राइम ब्रांच की संयुक्त टीम ने छापा मारा।

छापे के दौरान तोता ने गोली चलाकर भागने की कोशिश कि, लेकिन वो पुलिस के हत्थे आ ही गया। बता दें कि पहले मरियाडीह के दोहरे कत्ल के मामले में अतीक जेल में जा चुका था, लेकिन फिर वो जेल से छूट गया। जेल से छूटने के बाद वह अतीक अहमद के लिए गुंडागर्दी करने लगा। जिसके बाद पुलिस तीन महीने से उसे खोज रही थी और 12 हजार रुपये का पुरस्कार रखा गया था। 


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share