कांग्रेस शासित पंजाब वो हथियार किस के कत्ल के लिए छिपाए गये थे जिन्हें बरामद किया NIA ने ?

पंजाब में हिदूवादी नेताओं को लगातार खालिस्तानियों द्वारा टारगेट किया जा रहा है. कई हिंद्वादी संगठन के लोगों को वहां पर मौत के घाट उतारा जा चूका है. और अभी भी कई हिन्दू नेताओं को जान से मारने की धमकियां दी जा रही है. उन्हें फेसबुक और फोन कालों के माध्यम से धमकाया का रहा है. लेकिन इतनी दिल दहला देने वाली हत्याओं के बाद भी अमरिंदर पुलिस का अपराधियों में कोई खौफ नहीं है.

काग्रेस सरकार के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह की पुलिस से वहां के खूंखार अपराधी जरा भी खौफ नहीं खाते. कथित आतंकियों को पंजाब पुलिस ने लगभग एक महीने तक रिमांड पर रखा. लेकिन पुलिसवाले वाले उनसे कोई भी बात उगलवाने में नाकाम रहे. जिसके बाद NIA को पुलिस की इस नाकामी में दखल देना पड़ा. और अभी तक NIA की टीम आरोपियों से कई राज उगलवा चुकी है.

पंजाब में हुई टारगेट किलिंग के मामलों की छानबीन कर रही नैशनल इंवैस्टीगेशन एजैंसी (एन.आई.ए.) के हाथअहम सुराग लगे हैं. एन.आई.ए. की टीम मर्डर में प्रयोग की गयी 11 में से 9 हथियार बरामद कर चुकी है. इस बात का खुलासा पंजाब पुलिस द्वारा पकडे गए 2 कथित आतंकियों रमनदीप सिंह उर्फ बग्गा व शार्प शूटर हरदीप सिंह शेरा से पूछताछ के दौरान हुआ है.

शनिवार को एन.आई.ए. ने हिंदू नेता अमित शर्मा की हत्या में प्रयुक्त हथियारों की खोजबीन में जालंधर बाईपास चुंगी के निकट का इलाका खंगाला.

बता दें कि पिछले साल माता रानी मंदिर के पास हिंदू नेता अमित शर्मा को कुछ बंदूकधारियों ने मौत के घाट उतार दिया था. इस तलाशी अभियान में पहले मल्होत्रा रिसॉर्ट्स के पास सुनसान इलाके में उगी झाडिय़ों को जे.सी.बी. से साफ करवाया गया। एरिया पूरी तरह से समतल करवाने के बाद मैटल डिटैक्टर से उसे खंगाला गया. सूत्रों के मुताबिक अमित शर्मा के कत्ल में इस्तेमाल किए गए 2 हथियार रमन व शेरा ने इसी जगह छुपाये थे.

गौरतलब है कि आर.आर.एस. नेता रविंदर गोसाईं की हत्या करने के बाद कथित आतंकियों ने इससे कुछ ही दूरी पर अपनी बाइक छोड़ी थी. वहीँ आतंकियों के हाथों बाल-बाल बचे हिंदू लीडर अमित अरोड़ा को धमकाया जा रहा है कि इस बार वह किसी भी हाल में नहीं बचेगा. पुलिस के चंद अफसरों की ऐसी कार्रवाई से वाकिफ मृतकों के परिजन एन.आई.ए. से जांच की मांग करते रहे हैं और एन.आई.ए. की टीम ने इन्हीं आरोपियों से हथियार बरामद करके साबित कर दिया है कि पंजाब पुलिस की जांच मुकम्मल नहीं थी. 

Share This Post

Leave a Reply