पंजाब की कांग्रेस सरकार का गौशाला के लिए ऐसा फरमान जिसे सुनकर भड़क गया हिन्दू समाज

हिन्दू विरोधी राजनीती के कारण पूरे देश से ख़ारिज की जा चुकी कांग्रेस ने एक बार फिर से हिन्दू विरोधी चेहरा दिखाया है. पंजाब की कांग्रेस सरकार ने गौशालाओं को लेकर एक फैसला लिया है जिससे हिन्दू समाज आक्रोशित हो उठा है. पंजाब की अमरिंदर सरकार ने यहां की गौशालाओं को मिल रही मुफ्त बिजली की आपूर्ति को रोक दिया है. केंद्रीय मंत्री एवं बीजेपी नेता विजय साम्पला ने पंजाब सरकार पर आरोप लगाया है कि उसने गौशालाओं के लिए मुफ्त बिजली योजना बंद कर दी है. साम्पला ने कहा कि पंजाब सरकार ने गाय उपकर के माध्यम से 50 करोड़ रुपये जुटाए हैं, फिर भी राज्य में गौशालाओं को मुफ्त बिजली नहीं मिल रही है और पंजाब विद्युत कारपोरेशन लिमिटेड (पीएसपीसीएल) ने आपूर्ति बंद कर दी है. इस योजना की शुरूआत पूववर्ती अकाली-बीजेपी गठबंधन सरकार ने की थी.

पंजाब सरकार के इस फैसले की आलोचना शुरू हो गई है तथा हिन्दू संगठनों सहित विपक्षी भाजपा भी कांग्रेस पर हनलावर है. भारतीय जनता पार्टी के नेता विजय साम्पला ने कहा कि पीएसपीसीएल 2017 से ही गौशालाओं को बिजली का बिल अबतक भेज रही है, यह निंदनीय है.
साम्पला ने प्रदेश के बिजली मंत्री गुरप्रीत सिंह कांगर से पूछा कि बिजली बिल पर गाय उपकर वसूलने के बावजूद प्रदेश में पंजीकृत 472 गौशालाओं को 5.32 करोड़ रुपये का बिल क्यों भेजा जा रहा है. उन्होंने कहा कि राज्य के नीति के अनुसार बिल माफ किए जाने चाहिए. बता दें कि राज्य में गौशालाओं को पहले सप्लाई की गई मुफ्त बिजली के बिल वसूलने के आदेश जारी हो गए हैं.

पंजाब राज्य बिजली निगम लिमिटेड (पावरकॉम) की तरफ से राज्य भर में भेजे गए पत्र के मुताबिक पावरकॉम की तरफ से 28 मार्च, 2016 को जारी किए गए कॉमर्शियल सर्कुलर के अनुसार रजिस्टर्ड गौशालाओं को मुफ्त बिजली प्रदान की जानी थी परंतु इस पर 8 मई, 2017 को रोक लगा दी गई थी क्योंकि सरकार की तरफ से इस मामले में सब्सिडी का नोटीफिकेशन जारी नहीं किया गया और न ही बजट में इसकी व्यवस्था की गई थी.

Share This Post