Breaking News:

कांग्रेस शासित पंजाब में खुला एक नया देश विरोधी मोर्चा.. लगे “खालिस्तान जिंदाबाद” के नारे और 2020 तक कुछ करने की चेतावनी

आजादी के समय से ही हिन्दुस्तान कश्मीर की समस्या से जूझ रहा है जहां आये दिन कश्मीर की आजादी के नारे लगते हैं तथा कश्मीर की आजादी के नाम पर कश्मीर सहित पूरे हिन्दुस्तान में इस्लामिक आतंकियों द्वारा दहशत फैलाने का काम किया जाता है. और अब एक बार फिर कांग्रेस शासित राज्य पंजाब में भी दोबारा से खालिस्तान की मांग उठी है. पाकिस्तान के सहयोग से पंजाब में कुछ उग्रवादी लोग पंजाब को अलग खालिस्तान बनाने की मांग करते रहे हैं लेकिन उनके इन नापाक इरादों को कुछ दिया गया है.

लेकिन अब पंजाब में कांग्रेस की सरकार आने के बाद खालिस्तान समर्थक शक्तियां एक बार फिर से सक्रिय हो रही हैं. जो खालिस्तान के आका दशकों से दबे पड़े थे वो कांग्रेस की सरकार में एक बार फिर वे जाग चुके हैं. पंजाब में एक बार फिर से खालिस्तान के समर्थन में नारे लगाये गये हैं.  खालिस्तान के लिए जनमत संग्रह कराने की मांग कर रहे चार नौजवानों को पंजाब पुलिस ने नवांशहर जिले के बंगा कस्बे से गिरफ्तार किया है. गिरफ्तार युवकों पर ‘रेफरेंडम 2020’ और खालिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाने का आरोप है. आरोपित युवकों को स्थानीय कोर्ट ने चार दिनों के लिए पुलिस कस्टडी में सौंपा है. गिरफ्तार युवक खनखाना गांव के निवासी हैं.

पंजाब पुलिस का कहना है कि कुछ युवको की एक टोली खालिस्तान जिंदाबाद तथा रेफरेंडम 2020 के नारे लगा रही थी. सूचना मिलने पर पुलिस पहुँची तथा 4 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया. सीआईए स्टाफ में युवकों से पूछताछ की जा रही है. आरोपितों को स्पेशल सेल की इनपुट पर गिरफ्तार किया गया है. गौरतलब है कि रेफरेंडम 2020 खालिस्तान समर्थकों का एक मुख्य नारा है जिसके तहत वो 2020 तक खालिस्तान को अलग राष्ट्र बनाना चाहते हैं. खालिस्तान को समर्थन देने वाले कई समूह विदेशों में सक्रिय हैं, जो भारत में सिखों के लिए अलग खालिस्तान बनाने की मांग करते हैं. विदेशी ताकतों के हस्तक्षेप से खालिस्तान समर्थक पंजाब में अशांति फैलाना चाहते हैं. सिख फॉर जस्टिस नमक सन्गठन पंजाब में “रेफरेंडम 2020” के नाम पर पंजाब का माहौल बिगाड़ने की कोशिश कर रहा है.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW