टीपू सुल्तान के जयकारे लगाती कांग्रेस ने अब राजस्थान में वीर सावरकर के खिलाफ लिखवाया ये सब.. आक्रोशित हुआ हिन्दू समाज

अनगिनत हिन्दुओं के हत्यारे मुग़ल आक्रान्ता टीपू सुलतान की जय जयकार करने वाली कांग्रेस आजादी के नायक, हिन्दू राष्ट्रवाद के प्रणेता अमर हुतात्मा वीर सावरकार के खिलाफ तनकर खड़ी हो गई है. सड़क से लेकर संसद तक जिहादी हत्यारे टीपू सुल्तान के जयकारे लगाने वाली कांग्रेस की राजस्था सरकार ने सरकार ने नए पाठ्यक्रम में विनायक दामोदर सावरकर को वीर और देशभक्त नहीं, बल्कि जेल से बचने के लिए अंग्रेजों से दया मांगने वाला बताया गया है.

एक ऐसा लड़ाकू विमान जिसे सिर्फ भारत को बेचेगा अमेरिका.. विदेश नीति की बड़ी सफलता

बता दें कि राजस्थान में पिछली भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) सरकार ने स्कूली शिक्षा के पाठ्यक्रमों में बदलाव करते हुए वीर सावरकर को महान क्रांतिकारी और स्वतंत्रता संग्राम का योद्धा बताया था, जिसे कांग्रेस ने  बदलते हुए बच्चों के सामने राष्ट्र नायक वीर सावरकर का गलत इतिहास पेश करते हुए उन्हें अंग्रेजों से माफी  मांगने वाला  बताया है. कांग्रेस सरकार के इस फैसले का देशभर में बड़े पैमाने पर तीव्र विरोध हो गया है. बीजेपी के अलावा तमाम हिन्दू राष्ट्रवादी संगठन कांग्रेस सरकार के इस फैसले के खिलाफ भड़क उठे हैं.

1 मुसलमान ने फेसबुक पर सिर्फ इतना लिखा था – “आज हँस लो, कल रोना पड़ेगा” .. उसके बाद जो हुआ वो किसी ने सोचा भी न था

राजस्थान के शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने जानकारी देते हुए बताया, ‘वीर सावरकर जैसे लोग, जिनका देश के स्वतंत्रता आंदोलन में कोई भी योगदान नहीं है, उनका गुणगान किताबों में किया गया है. जब हमारी सरकार सत्ता में आई तो इन चीजों के विश्लेषण के लिए समिति का गठन किया गया। अब किताबों में जो कुछ भी है, वह पुख्ता सबूतों पर आधारित है.’ कांग्रेस सरकार ने नए पाठ्यक्रम में तब्दीली करते हुए जोड़ दिया है कि अंग्रेजों की यातनाओं से तंग आकर सावरकर चार बार माफी मांग कर जेल से बाहर आए थे. राजस्थान की स्कूलों में दसवीं कक्षा के भाग-3 के पाठ्यक्रम में देश के महापुरुषों की जीवनी के बारे में पढ़ाया जाता है.

मॉर्डन लड़कीं जिद कर रही थी पति से शिखा कटवाने की.. पति बोला – “तलाक मंजूर, पर संस्कार नही त्याग सकता”

उल्लेखनीय है कि राज्य में सत्ता परिवर्तन के साथ ही कांग्रेस सरकार ने दो कमेटियों का गठन कर स्कूली शिक्षा के पाठ्यक्रम की समीक्षा का कार्य शुरू करवाया था. उस समय शिक्षा राज्यमंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने पूर्ववर्ती बीजेपी सरकार पर स्कूली शिक्षा का भगवाकरण करने आरोप लगया था. डोटासरा ने कहा था कि कांग्रेस सरकार सिलेबस की समीक्षा करवाएगी और उसमें आवश्यक संसोधन करेगी. डोटासरा ने स्कूली शिक्षा से जुड़े पूर्ववर्ती सरकार के कई अहम फैसले तत्काल बदल भी दिए थे. डोटासरा ने ये भी कहा था कि व इस बात की भी समीक्षा करेंगे कि महाराणा प्रताप को ही किताबों में महान पढ़ाया जायेगा या फिर फिर से अकबर को महान बताया जायेगा.

कश्मीर में सेना पर पत्थरों की बौछार.. बुरी तरह घायल हुए राष्ट्र के 50 रक्षक.. तथाकथित सेकुलरिज़्म वाले पत्थरबाजों के साथखड़े

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने व हमें मज़बूत करने के लिए आर्थिक सहयोग करें।

Paytm – 9540115511

Share This Post