कान खोलकर सुन लो भाभी, जितना हक़ भैया का तुम पर है उतना ही हक़ हम दोनों का भी है.. इतना कहकर रफीक और मुबारिक टूट पड़े अपनी भाभी पर


वो अपने देवरों को बेटा कहती थी तथा एक मां की तरह उनका ख्याल रखती थी. लेकिन वो नहीं जानती थी कि अपने जिन देवरों को वह बेटा समझती है वो ही उसकी इज्जत को तार तार कर देंगे. वो नहीं जानती थी कि जिन देवरों का ख्याल वह एक मां की तरह रख रही है वो देवर उसी के द्वारा अपनी हवस बुझाने की साजिश रच रहे हैं. समझ नहीं आता है कि आखिर वो कौन सी सोच है जो अपनी हवस की भूख में सारे रिश्ते नातों तक की मर्यादा को भूल जाती है व उनके साथ जघन्य अपराध दुष्कर्म को अंजाम देती है?

लेकिन ऐसी सोच रफीक व मुबारिक नामक दो भाइयों के पास थी जिन्होंने अपने भाई की मौजूदगी में उसकी पत्नी अर्थात अपनी भाभी के साथ बलात्कार किया. मामला राजस्थान के चुरू जिले का है. पुलिस के अनुसार, चुरू के रामगढ़ शेखावाटी इलाके की एक महिला अपने घर में अकेली थी, तभी उसके दो देवर रफीक तथा मुबारिक घर आये. महिला अर्थात उन दोनों की भाभी ने दोनों को पानी आदि दिया. इसके बाद दोनों देवरों ने उसके साथ छेड़छाड़ शुरू कर दी.  विरोध करने पर दोनों ने कहा कि जितना हक हमारे भाई तुम पर है उतना ही हमारा भी है. महिलाएं तो वैसे भी मनोरंजन का साधन होती हैं. इसके बाद रफीक और मुबारिक अपनी भाभी पर टूट पड़े तथा जबरन बेरहमी के साथ दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया.

दोनों आरोपियों ने दुष्कर्म की वारदात को उस वक्त अंजाम दिया जब महिला का पति और ससुर काम से घर के बाहर गये थे. पहले आरोपी रफीक ने महिला को अकेला पाकर उससे दुष्कर्म किया और फिर मुबारिक भी अपने भाई के इस घिनौने कृत्य में शामिल हो गया. इसके बाद दोनों ने कई बार बारी-२ से उस महिला की इज्जत लूटी तथा जान से मरने की धमकी देकर दोनों भाग गए. इसके बाद पीड़िता ने अपने पति के घर आने के बाद ठाणे जाकर मेल की शिकायत दर्ज कराई.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...