जिस अलवर के निवासियों को इस बीच में बदनाम किया गया रकबर के नाम पर वो अपनी आँखों से देखते हैं गौह्त्या व बाइकों पर मांस की सप्लाई

राजस्थान के अलवर में गौ तस्कर रकबर खान की ह्त्या के बाद एक तरह से अलवर क्षेत्र के हिन्दुओं को ही उन्मादी साबित करने की होड़ सी लग गयी. चाहे वह धर्मनिरपेक्षता के अपिरोकार राजनेता हों या तथाकथित मानवतावादी..सभी एक तरह से अलवर क्षेत्र के हिन्दुओं पर हावी हो गये तथा कहने लगे कि अल्पसंख्यकों पर अत्याचार किया जा रहा है. कब कि सच्चाई तो ये है कि अलवर के जिन हिन्दुओं को कटघरे में खड़ा किया जा रहा है, बदनाम किया जा रहा है वो अपनी आँखों के सामने सनातन की पूज्य गौमाता की ह्त्या होते देखते हैं, गोमांस की सप्लाई होते देखते हैं.

आपको बता दें कि गोकशी कर चोरी-छिपे मांस बेचने का धंधा केवल अलवर ही नहीं बल्कि भरतपुर और हरियाणा के पूरे मेवात इलाके में चल रहा है. इसे बेचने वालों में अलवर जिले के लोगों का हाथ नहीं है बल्कि ये लोग हरियाणा और यूपी के है जो यहां पर आकर यह काम कर रहें है. धंधे से जुड़े लोग ग्राहकों के घर तक पॉलीथीन कैरीबैग में पैक कर गोमांस की डिलीवरी करते हैं. सड़कों पर आवारा घूमता गोवंश लगभग मुफ्त मिल जाता है, इसलिए शत-प्रतिशत मुनाफे बिजनेस होता है, जिसमें ग्राहक और बेचने वाले तो एक-दूसरे को बखूबी जानते हैं, लेकिन बाहरी लोगों को भनक तक नहीं लग पाती. पहचान न हो इसके लिए गाय के मांस को भक्कर के नाम खरीदा-बेचा जाता है. सूत्रों के अनुसार उत्तरप्रदेश में बूचडख़ानों पर करीब एक साल पहले सरकार की कार्रवाइयों के बाद धंधे से जुड़े लोगों ने भी अलवर, भरतपुर और मेवात का रुख कर लिया है. करीब छह माह पहले अलवर शहर से सटे नंगला रायसिस के समीप यूपी से आए कुरैशी परिवार ने मीट की दुकान खोली. यहां अन्य मीट के साथ उसने गोमांस बेचना भी शुरु कर दिया, लेकिन यह बात किसी गांव वाले को पता चल गई. उसके बाद गांव को बदनामी से बचाने के लिए दुकान बंद करा उसे भगा दिया गया.

इसी तरह गोमांस बेचने के मामला 25 जुलाई को टपूकड़ा के खुशखेड़ा औद्योगिक क्षेत्र में पकड़ा गया था. यहां ग्रामीणों ने बाइक पर गोमांस ले जाने के शक में एक व्यक्ति को रोका और पुलिस को सौंपा. पुलिस ने तलाशी ली तो बाइक पर लगे दो बैग में मीट बरामद हुआ. पुलिस ने मौके पर ही पशु चिकित्सक बुलाकर जांच की. उसने इसे प्रथमदृष्टया गोमांस बताया. पकड़ा गया यामीन पुत्र किफायतुल्ला उत्तरप्रदेश के शाहजहांपुर का रहने वाला निकला. उसने मीट हरियाणा से खरीदकर लाना बताया. वह गोतस्करी के आरोप में फिलहाल न्यायिक अभिरक्षा में चल रहा है. ऐसे एक नहीं कई मामले सामने आ चुके हैं. कल ही अलवर में शकील नामक गौतस्कर के घर में गोमांस बरामद किया गया है.

Share This Post

Leave a Reply