बलात्कार से मन नहीं भरा शाहिद का तो बनाई वीडियो और मांगे लाखों रूपये.. पैसे पा कर भी कर डाला जीवन तबाह

एक महिला के गर्भ से जन्म लेने के बाद, महिला का ही दूध पीने के बाद भी शाहिद के ऊपर हवस की ऐसी भूख सवार हुई कि उसने अपने 7 दोस्तों के साथ मिलकर नारी अस्मिता को कुचलते हुए एक युवती के साथ बलात्कार की घटना को अंजाम दे डाला. शाहिद यहीं तक नहीं रुका बल्कि उसने इस दौरान युवती की अश्लील वीडियो भी बना ली तथा उस वीडियो के आधार युवती को ब्लैकमेल करते हुए लाखों रूपये ऐंठ लिए फिर वीडियो वायरल कर दिया. वीडियो वायरल होने के कारण डिप्रेशन में आई पीड़िता के अपने हाथ की कलाई काटकर आत्महत्या करने का प्रयास किया.

“अगर मुसलमानों के इलाके से कांवड़ निकाली तो बम से उड़ा दिया जाएगा बरेली स्टेशन” — सेक्यूलर भारत में अब ऐसी धमकियां

मामला राजस्थान के मकराना जिले का है. युवती ने बलात्कार कर अश्लील वीडियो के जरिए ब्लैकमेल कर रुपए ऐंठने वाले गिरोह के 8 युवकों के खिलाफ पीड़िता ने दुष्कर्म करने, षड़यंत्र रचने, आत्महत्या के लिए उकसाने एवं आईटी एक्ट की धाराओं के तहत मकराना थाने में मामला दर्ज करवाया है. बलात्कार व अश्लील वीडियो के आधार पर गैंगरेप की शिकार पीड़िता युवती की शिकायत पर कार्यवाई करते हुए पुलिस ने मुख्य आरोपी शाहिद को गिरफ्तार कर लिया है जबकि अन्य 7 आरोपी फरार है.

जिस ट्रक ने रौंदा है उन्नाव की रेप पीड़िता को वो ट्रक निकला समाजवादी पार्टी के नेता का.. सोनभद्र नरसंहार के बाद अब उन्नाव मामले में भी समाजवादी कनेक्शन

पीड़िता ने रिपोर्ट में बताया कि मुख्य आरोपी मोहम्मद शाहिद गैसावत पुत्र पप्पू गैसावत निवासी निपेंसी रोड मकराना ने पहले उसे झांसे में लेकर दोस्ती की. डेढ़ साल पहले रिश्तेदारी की एक शादी में बुलवाया और वहां नशीला पदार्थ पिला कर अश्लील वीडियो बना लिया. बाद में वीडियो वायरल करने की धमकी दे शारीरिक शोषण किया और शादी का झांसा भी दिया. आरोपी मोहम्मद शाहिद ने दुष्कर्म का अश्लील वीडियो अपने दोस्त आरिफ गहलोत निवासी दो मस्जिद, सलीम उस्ता के भतीजे जुनैद, अजरुदीन, मोहसिन निवासी देशवाली ढाणी, आसिफ गहलोत और अली को दे दिया.

30 जुलाई: बलिदान दिवस गोलियों से छलनी वो वीर अस्पताल नहीं इस्लामिक आतंकियों की तरफ दौड़ा और मार गिराया 2 को. कुपवाड़ा के रक्षक बबलू सिंह

उक्त 6 आरोपियों के अलावा उनकी साथी एक युवती भी पीड़िता को फोन कर ब्लैकमेल करने लगी और पैसे ऐंठते रहे. सभी आरोपियों ने वीडियो डिलीट करने के एवज में पीड़िता से 7 लाख रूपये मांगे. इतनी बड़ी रकम पीड़िता द्वारा नहीं दिए जाने पर उसका वीडियो वायरल कर दिया गया. आरोपियों के द्वारा ब्लैकमेल की जा रही युवती ने उनको डेढ़ साल में लाखों रुपए दे दिए थे लेकिन 7 लाख की डिमांड कर ब्लैकमेल किए जाने से युवती डिप्रेसन में चली गई. डिमांड पूरी नहीं होने पर आरोपियों ने शहर भर में वीडियो वायरल कर दिया, जिससे युवती ने हाथ की नसें काट ली. गनीमत रही कि परिजनों को पता चल गया, जिससे समय रहते उपचार मिलने से वह बच गई. फ़िलहाल शाहिद को गिरफ्तार कर लिया गया है.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं

Share This Post