यासिर को दोस्त नहीं बल्कि भाई समझकर घर में बिठाता था वो.. उसे पता ही नहीं था कि होने जा रहा अनर्थ.. और कराह उठी मानवता

वो यासिर उर्फ़ बबलू को अपना दोस्त समझता था तथा उसे अपने भाई की तरह यासिर को अपने घर में बिठाता था. लेकिन वो नहीं जानता था कि जिस यासिर को वह अपना भाई मानता है, जो यासिर उर्फ़ बबलू उसका सबसे अच्छा दोस्त है वही यासिर उसकी जिन्दगी में सबसे बड़ा दर्द लाने वाला है. यासिर ने जो किया उसने इंसानी विश्वास को तो टूटा ही, साथ ही मानवता भी कराह उठी.

मामला उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ का है जहाँ यासिर उर्फ़ बबलू ने अपने दोस्त की 6 साल की बच्ची के साथ रेप के बाद गले में चाकू घोपकर उसकी बेरहमी से हत्या कर दी. बच्ची हैवान यासिर के घर में तख़्त के नीचे खून से लथपथ मिली. परिवारीजन और पुलिस उसे लेकर तत्‍काल ट्रॉमा सेंटर पहुंचे जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया. जानकारी के मुताबिक पुराने लखनऊ के सआदतगंज इलाके में रहने वाली छह साल की बच्ची रविवार दोपहर बाद से गायब थी. काफी देर तक बच्ची घर नहीं पहुंची. उसकी तलाश की गई ,लेकिन उसका कोई पता नहीं चला.

परिजनों ने बाद में सआदतगंज थाने में बच्ची के लापता होने की सूचना दी. बच्ची के पिता ने अपने दोस्त यासिर उर्फ़ बच्चन उर्फ़ बबलू पर बच्ची को गायब करने का संदेह जताया. उसके बाद पुलिस ठाकुरगंज के हजाराबाग स्थित बबलू के घर पहुंची तो यासिर नशे की हालत में मिला. पुलिस ने उससे पूछताछ की तो वह काफी देर तक गुमराह करने का प्रयास करता रहा. इसी बीच बच्ची के घरवाले दोबारा आरोपी के घर पहुंच गए. स्थिति को बिगड़ने से रोकने क लिए और भी पुलिस बुला ली गई.

जानकारी के मुताबिक़, बच्ची परिवारीजनों के दबाव पर पुलिस ने यासिर के घर लगा ताला तोड़ा दिया और तलाशी ली, तो उसके बेड़ के नीचे बच्ची नग्न अवस्था में खून से लथपथ हालत में मिली. पुलिस बच्ची को लेकर ट्रामा सेंटर गई जहां डाक्ट्ररों ने उसे मृत घोषित कर दिया. बच्ची के गले पर धारदार हथियार से निशान थे. घटना से गुस्साए बच्ची के परिवारीजनों ने रात को ट्रॉमा सेंटर और वजीरबाग में जमकर हंगामा किया और बाद में आरोपी के घर पर भी तोड़फोड़ की.

घटना के बाद इलाके में तनाव को देखते हुए पुलिस और पीएसी तैनात करनी पडी. बताया गया है कि यासिर और बच्ची के पिता की आपस में दोस्ती थी. दोनों का एक-दूसरे के घर आना जाना था. यासिर भवन निमार्ण की सामग्री की दुकान पर काम करता था, लेकिन नशे की लत के कारण दुकानदार ने उसे काम से हटा दिया था. बच्ची के पिता के अनुसार रविवार दोपहर बबलू उर्फ़ यासिर उसके घर आया. दोनों ने साथ में खाना खाया. इसके बाद वे घर से निकले. बच्ची का पिता दुकान पर चला गया.

थोड़ी देर बाद यासिर फिर दोस्त के घर पहुंचा. उसने दोस्त की बेटी को बहाने से बुलाया और अपने साथ ले लेकर चला गया. घर ले जाकर उसने बच्ची के साथ बलात्कार किया और गला रेत कर उसकी हत्या कर दी. आरोपी को बच्ची मामा बोलती थी. वारदात पर एसएसपी कलानिधि नैथानी ने बताया कि बच्‍ची के परिवार की तरफ से मिली तहरीर के आधार पर दुष्कर्म और हत्या के साथ पोक्सो एक्ट में केस दर्ज कर लिया गया है. तहरीर में बबलू के साथ ही उसके परिवार को भी आरोपी बनाया गया है. शव का डॉक्टरों के पैनल से पोस्टमार्टम करवाया गया है.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करें. नीचे लिंक पर जाऐं–

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW