नाबालिग को मॉल में कपडे दिलाने ले गया था सलामतुल्ला अंसारी… फिर हवस की भूख में कुचल दिया मासूम का बचपन

आखिर वो कौन सी सोच है जो हर नारी वर्ग को अपनी हवस की भूख मिटाने का साधन समझती है ? आखिर वह कौन सी सोच है जो अपनी हवस की पूर्ति के लिए दरिंदगी की सारी हदें पार कर देती हैं ? आखिर वह कौन सी सोच है जो अपनी दुराचारी जाहिल आदमियत वाली बहशी मानसिकता का शिकार जहाँ अपनी माँ की आयु की महिलाओं को भी बनाती है तो वहीं मासूम छोटी बच्चियों तक को भी बना लेती हैं. क्या ऐसे लोग इंसान कहलाने लायक हैं जो मासूमों के साथ दरिंदगी करते हैं, उनके बचपन को कुचल देते हैं ?

इसी बहशी मानसिकता वाली दुराचारी सोच का शिकार झारखंड के पाकुड़ की एक नाबालिग बच्ची हुई है जिसके साथ उसके परिचित सलामतुल्ला अन्सारी ने बलात्कार किया तथा उसके बचपन को अपनी हवस के पैरों तले कुचल दिया. पुलिस सूत्रों ने गुरुवार को बताया कि नाबालिग की मां के बयान के आधार पर संबंधित थाने में प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है. प्राथमिकी के अनुसार नाबालिग दुमका में अपने रिश्तेदार के यहां रहकर पढ़ाई कर रही थी. 11 नवंबर को रिश्तेदार ने परिजनों को सूचना दी कि उनकी बेटी घर पर नहीं है.

बच्ची के माता-पिता ने जब खोजबीन शुरू की तो अमड़ापाड़ा थाना क्षेत्र में ही बच्ची सुनसान स्थान पर पायी गयी. पूंछने पर बच्ची ने बताया कि पूर्व के परिचित सलामतुल्ला अंसारी दुमका में मिला और एक माॅल में ले गया एवं उसे कपड़े खरीदकर दिए. कपड़े खरीदने के बाद सलामतुल्ला नाबालिग को अपने साथ ले गया और दुष्कर्म किया. सूत्रों ने बताया कि इस सिलसिले में पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज कर आरोपी सलामतुल्ला अंसारी की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी कर रही है.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW