12 साल की वो बच्ची बंधी मिली मस्जिद में .. दहाड़ें मारकर रोते हुए बताया कि मौलवी ने उसके साथ क्या किया


वो मस्जिद का मौलवी था तथा सभी लोग उसका काफी सम्मान करते थे. वो शान से अपने नाम में मौलवी लगा कर खुद को एक पूरे समाज का प्रतिनिधि बताता था. मस्जिद से मुस्लिम समुदाय को मानवता, इंसानियत, अमन-मोहब्बत की तालीम देने का दावा करने वाले इस मौलवी की वास्तविक हकीकत तथा मानसिकता क्या थी, ये कोई नहीं जानता था. लेकिन जब मौलवी की हकीकत उस मासूम ने रोते हुए हुए बताई तो लोग दंग रह गये.

ये मौलवी के वेश में छिपा हुआ एक बहशी दरिंदा था जिसने अपनी बहशी मानसिकता के ग्रसित होकर 12 वर्षीय मासूम छात्रा के साथ दुष्कर्म किया तथा उसके बचपन को कुचल दिया. मौलवी ने ऐसा एक नहीं बल्कि कई बार किया. मामला उत्तर प्रदेश के गोरखपुर का है जहाँ बैदौली, बड़हलगंज का रहने वाला मौलवी इमरान खां इलाके की एक मस्जिद में नमाज पढ़ता था. मस्जिद में रहकर ही अपने कमरे में बच्‍चों को उर्दू पढ़ाता था. 12 साल की बच्ची भी उसके पास उर्दू पढ़ने जाती थी. इस बीच बच्ची रहस्यमय ढंग से घर से लापता हो गई.

परिजनों ने उसकी काफी तलाश की लेकिन बच्ची नहीं मिली. बताया गया है कि बच्ची गुम होने की सूचना पुलिस को भी दी गई थी. इस बीच एक दिन बाद लोगों को मौलवी के कमरे से बच्‍ची के रोने की आवाज सुनाई दी. कमरा खुलवाया गया तो अंदर बच्ची बंधक बनाकर रखी मिली. लोगों ने तुरंत मौलवी को पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया था. पूछताछ में बच्ची ने परिजनों को मौलवी के करतूत के बारे में जानकारी दी. बच्ची ने बताया कि मौलवी ने धमकी देकर उसने उसे अपने कमरे पर बुलाया था तथा उसके साथ गंदा काम किया. पुलिस ने मौलवी को गिरफ्तार कर मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया गया, जहां से उसे जेल भेज दिया गया.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...