समय कैसे बदला देखिए. चिदम्बरम के भ्रष्टाचारी बेटे को मद्रास हाईकोर्ट ने वापस लौटाया

कार्ति चिदंबरम पर 2007 में नियम तोड़कर एक मीडिया कंपनी में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश को मंजूरी दिलवाने का आरोप है। मद्रास हाईकार्ट ने मंगलवार को पूर्व

केन्द्रीय गृह मंत्री पी चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम को आईएनएक्स मामले में को राहत देने से इनकार करते हुए उन्हें 23 अगस्त को सीबीआई के समक्ष पेश

होने का आदेश दिया है।

कार्ति ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि उन्हें सीबीआई के समक्ष पेश होने से डर नहीं है लेकिन वह सुरक्षा चाहते हैं।

इसके बाद कोर्ट ने कार्ति को साथ में एक वकील

ले जाने की भी इजाजत दे दी। हालांकि, पूछताछ के दौरान वकील उस कमरे में मौजूद नहीं रहेगा। सुप्रीम कोर्ट कार्ति के खिलाफ जारी लुक आउट नोटिस मामले

की सुनवाई कर रहा है।

सुप्रीम कोर्ट ने कार्ति की ओर से पेश हुए वरिष्ठ अधिवक्ता गोपाल सुब्रमण्यम की इस दलील को ठुकरा दिया कि कार्ति के पिता पी. चिदंबरम को निशाना बनाए

जाने के मकसद से उन्हें आरोपी बनाया है।

सीबीआई के सामने पेश होने के लिए जून और जुलाई में समन भेजे गए लेकिन वे उपस्थित नही हुए और एजेंसी से

और समय देने की मांग की बाद में उनके खिलाफ लुकआउट नोटिस भी जारी किया गया ताकि वे विदेश न भाग सके इसे खारिज करने के लिए भी उन्होंने

अदालत का रूख किया था लेकिन सुप्रीम कोर्ट तक ने इस पर रोक लगाने से इनकार कर दिया।

Share This Post