सरकार व जिला प्रशासन के सख्ती के बावजूद, प्रधान है कि मानता नहीं…….

उत्तर प्रदेश / चंदौली 

चन्दौली। सरकार एवं जिला प्रशासन के सख्ती के वावजूद भ्रष्टाचार पर अंकुश नही लग पा रहा है। सरकार गांवों के विकास के लिए तमाम कल्याणकारी योजनाओं को लागू कर रखी है वही कुछ भ्रष्ट ग्राम प्रधान एवं सेक्रेटरी पूरी योजना को पली

ता लगा रहे है। ग्राम प्रधान एवं सेक्रेटरी सरकार की कल्याणकारी योजनाओ को दीमक की तरह सफाचट कर जा रहे है पूरी योजना को वास्तविक धरातल पर फलीभूत होने से पहले भ्रष्टाचार की बलिबेदी पर चढ़ा दे रहे है। ताजा मामला ग्राम मझवार विकास खंड सदर का है। जहाँ ग्राम प्रधानपति मनीष उपाध्याय व सेक्रेटरी साकिब खान पूरी योजना को अजगर की तरह गटक जा रहे है। ग्रामीणों ने आरोप लगाया है कि प्रधानपति और सेक्रेटरी गरीबों से आवास , शौचालय एवं राशन कार्ड बनवाने के नाम पर रिश्वत की मांग करते है। ग्रामीणों का कहना है कि इन लोगो द्वारा आवास में दस हजार , शौचालय में दो हजार और पेंशन बनवाने के नाम पर पांच सौ रुपये की मांग करते है। ग्रामीणों के विरोध करने पर प्रधानपति द्वारा धमकी दी जाती है कि जो करना है कर लो हमारा कोई कुछ नही विगाड़ सकता मेरी पहुंच दिल्ली तक है। ग्रामीणों ने प्रधानपति पर शराब पीकर गाली- गलौज करने का भी गंभीर आरोप लगाया है। प्रधानपति और सेक्रेटरी के मनमाना रवौये के चलते मझवार गांव में स्वच्छ भारत मिशन दम तोड़ता नजर आ रहा है। शौचालय के अभाव में ग्रामीण खुले में शौच करने के लिए विवश है। आवास के अभाव में गरीब टूटी फूटी झोपड़ियों में रहने को मजबूर है वही गरीब बुजुर्ग प्रधानपति एवं सेक्रेटरी के दबंगई के चलते वृद्धा पेंशन से बंचित है। इन दोनों लोगो के भ्रष्टाचार से अजीज आकर ग्रामीण धरना पर बैठ गये। मौके पर पहुचे सुदर्शन न्यूज चैनल के जिला संबाददाता प्रशांत सिंह से आप बीती बताई। ग्रमीणों ने बताया कि प्रधानपति और सेक्रेटरी के मिलीभगत से सरकार की योजना का लाभ गरीब ग्रामीणों को नही मिल रहा है। जिसकी शिकायत हम लोगो ने बीडीओ और जिला पंचायत राज अधिकारी से कई बार कर चुके है इसके वावजूद इन भ्रष्ट प्रधानपति एवं सेक्रेटरी पर कोई कार्यवाई नही हुई।

वेब जर्नलिस्ट

प्रशांत सिंह

92649 15248

विडियो देखे 👇

Share This Post