धर्मान्तरित करा कर योगीराज को दी जा रही थी चुनौती. तभी पहुच गया वहां बजरंग दल

भारत के गृहमंत्री श्री राजनाथ सिंह जी ने सरकार बनने के बाद पूछा था कि क्या बिना धर्मान्तरित कराये सेवा नहीं कर सकती क्या मिशनरियां .. जिसका उत्तर ना देना सीधे सीधे ये इशारा करता है कि उन्होंने इसे स्वीकार नहीं किया . एक बार फिर उनके निशाने पर उत्तर प्रदेश था जिसे हिन्दू संगठनों ने समय रहते ही पहिचान लिया और उसके विरोध में फ़ौरन ही उतर आये जिसके बाद उन्हें बोरिया बिस्तर समेट कर भागना पड़ा ..

ज्ञात हो कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश के बिजनौर जिले के गांव हरगनपुर में सत्संग की आड में धर्मांतरण की सूचना पर हिंदू संगठनों के लोगों ने जमकर हंगामा किया। आरोप है कि, ईसाई मिशनरी के लोग सत्संग में आए लोगों को धर्मांतरण के लिए प्रेरित कर रहे थे। सूचना पर पहुंची पुलिस ने कार्रवाई का आश्वासन देकर मामला शांत कराया।
गांव हरगनपुर में धर्मवीर सैनी, रामकुमार सैनी के घर में कुछ लोग सत्संग कर रहे थे। मौके पर काफी संख्या में लोग मौजूद थे। आरोप है कि, कुछ लोग सत्संग में हिंदू धर्म के बारे में गलत टिप्पणी कर रहे थे। 
इस दौरान ग्रामवासियों को ईसाई धर्म अपनाने के लिए प्रेरित किया गया। ईसाई धर्म अपनाने पर बीमारियों से छुटकारा दिलाने के सपने दिखाए गए। मामले की सूचना पर हिंदू जागरण मंच के मंडल प्रमुख चिंतामणि के नेतृत्व में सावन वाल्मीकि, तिलकराज सैनी, सुखवीर सैनी, कुलवीर चौधरी, क्षेत्रपाल सिंह, अंकित त्यागी, लक्ष्यराज आदि गांव पहुंचे और सत्संग का विरोध किया। सत्संग करने आए संसार सिंह और प्रदीप कुमार पर महिलाओं को बरगलाने का आरोप लगाया। हिंदू संगठन के कार्यकर्ताओं का आरोप है कि, दोनों लोग जिले में ईसाई मिशनरी के लिए काम कर रहे हैं। 
हर माह सत्संग की आड़ में लोगों को ईसाई धर्म अपनाने के लिए प्रेरित किया जाता है। २ सितंबर को गांव फलौदा में सत्संग करने की घोषणा भी कर दी गई थी। सूचना पर पुलिस भी मौके पर पहुंच गई और दोनों पक्षों से वार्ता की। हिंदू संगठनों के लोगों ने धर्मांतरण के लिए प्रेरित करने वाले लोगों के विरोध में कार्रवाई की मांग की। मौके पर पुलिस ने समय रहते तत्परता दिखाई और बड़े विवाद को टाल दिया .. सुदर्शन न्यूज के प्रधान सम्पादक श्री सुरेश चव्हाणके जी ने चलते चलते कार्यक्रम में श्री योगी आदित्यनाथ जी ये उत्तर प्रदेश के धर्मांतरण पर जब सवाल किया था तब उन्होंने अपनी सरकार बनने पर इसके विरुद्ध कठोर कार्यवाही की बात की थी , आज वही कार्यवाही आपेक्षित भी हैं . 
Share This Post

Leave a Reply