22 साल पुराने हत्या के मामले में आरजेडी नेता एवं पूर्व सांसद प्रभुनाथ सिंह दोषी करार, जल्द भेजे जाएंगे जेल


नई दिल्ली : 22 साल पुराने हत्या के मामले में हजारीबाग कोर्ट ने आरजेडी नेता एवं पूर्व सांसद प्रभुनाथ सिंह को दोषी करार दिया है। प्रभुनाथ सिंह को कोर्ट द्वारा दोषी ठहराए जाने के बाद हिरासत में लिया गया है। बता दें कि प्रभुनाथ सिंह ने जनतादल विधायक अशोक सिंह की 3 जुलाई 1995 को पटना में उनके सरकारी आवास 5 स्टैण्ड रोड में बम मारकर हत्या कर दी थी। 
उनकी हत्या का मुख्य आरोपी प्रभुनाथ को बनाया गया था। इसके साथ ही प्रभुनाथ सिंह के अलावा उनके भाई दीनानाथ सिंह और रितेश सिंह को भी आरोपी बनाया गया था। अब मामले में 23 मई को फैसला सुनाया जाएगा। प्रभुनाथ सिंह को बिहार की राजनीति में बाहुबली राजनेता के रूप में जाना जाता है। वह जुडीयू के टिकट से महाराजगंज से सांसद रह चुके हैं। उस समय अशोक सिंह मशरक के जनता दल से विधायक थे। 
28 दिसंबर, 1991 को मशरक के जिला परिषद कांप्लेक्स में उन पर गोलियों से ताबड़तोड़ फायरिंग की गई थी, लेकिन किसी तरह से वह बच गए थे। फिर उसके कुछ साल बाद 1995 में पटना स्थित उनके आवास पर उनकी हत्या कर दी गई। गौरतलब है कि जब छपरा की जेल में प्रभुनाथ को रखा गया था तो उस समय कानून व्यवस्था बिगड़ रही थी, जिसके चलते उनको हजारीबाग जेल में शिफ्ट किया गया। जिसके बाद प्रभुनाथ पर ट्रायल चला और 22 साल के बाद आज कोर्ट ने इस पर फैसला सुनाया।  

सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share