दिल्ली के बाद अब रतलाम के हिन्दू परिवार में घुसी उन्मादी भीड़.. 7 साल के बच्चे को मार कर किया अधमरा, महिलाएं भी लहुलुहान

जिस अंदाज़ में दिल्ली को सुलगाया गया था, जैसे घरो में घुस कर नारे लगाते हुए एक उन्मादी भीड़ ने जिसको भी पाया उसको मारा अब वही सब दोहराया जा रहा है सेकुलर कही जाने वाली कांग्रेस शासित मध्य प्रदेश में. कमलनाथ शासित मध्य प्रदेश में एक बार फिर से हिन्दू समाज को देखना पड़ा है वो खौफनाक मंजर जिसकी उन्होंने कभी कल्पना भी नहीं की थी.. इसमें जो भी सामने आया उसको बेरहमी से से मारा गया , ये भी नहीं देखा गया कि कौन बच्चा है और कौन वृद्ध ..

दरगाह में दुआ मांगने गई 2 हिन्दू बच्चियां हुईं गायब… शक के घेरे में है मौलवी

विदित हो कि अभी दिल्ली सुलग ही रही थी उन्मादियो के कहर से कि अचानक फिर से धावा बोल दिया है मध्य प्रदेश के रतलाम शहर में.. यहाँ मोब लिंचिंग का वो वीभत्स रूप देखने को मिला जिसके बाद इलाका सिहर उठा है . पुलिस के बूट और पुलिस की गाडियों के सायरन के बाद एक पूरे क्षेत्र में वो खौफ दिखाई दे रहा है जो उस इलाके के सेकुलर हिन्दुओं ने कभी नहीं देखा था .. इस बार रतलाम में इस मजहबी उन्माद का शिकार हुआ है गौरव नीमच और चिराग खरे का परिवार ..

पहले शरणार्थी आये, फिर घुसपैठी और अब आ रहे आतंकी.. रंग दिखा रही कथित सेक्यूलर राजनीति

प्राप्त जानकारी के अनुसार सोमवार रात 12.40 बजे भंडारी गली में लड़की छेड़ने की बात पर कुछ लोगों में हुए विवाद ने साम्प्रदायिक तूल पकड़ लिया.. बाकायदा एक क्षेत्र से एक पूरा गैंग उस गली में पहुच गया और पूरे गली में खेला गया साम्प्रदायिक उन्माद का खौफनाक खेल .. काजीपुरा क्षेत्र से आये उन्मादियो ने कश्मीरी अंदाज़ में पथराव किया और उन्मादी नारे लगाए ..इस दौरान युवक भंडारी गली के गणेश मंदिर के सामने रहने वाले नीमच परिवार के घर में भी घुस गए..

बिहार राज्य हिंदुओ के बाद अब निशाने पर पुलिस ? कोर्ट में लगी थी याचिका- “पुलिस हिरासत में मरे 2 मुसलमान”.. जबकि वो वाहन चोरी के संदिग्ध भी थे

उन्हें सबसे आगे 7 साल का बच्चा मिला जिसको बेरहमी से पीटा गया फिर दो महिलाओं को निशाना बनाया गया .. इस मामले में कुल 6 लोग घायल हो गए जिनके नाम गौरव नीमच, चिराग खरे , गर्वित नीम , रीना नीम, संगीता नीम, अकिनेक नीमा हैं ..मजहबी उन्मादियो ने घर के बाहर लगे बिजली के मीटर व दो पहिया वाहन एमपी 43 डीएन 9461 सहित कुछ अन्य में भी तोड़फोड़ की। साथ ही मकानों के दरवाजों पर भी लाठियां मारी। सामुदायिक विवाद की सूचना मिलने पर स्टेशन रोड टीआई राजेंद्र वर्मा और माणकचौक टीआई आरएस बर्डे पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे। तब तक ज्यादातर युवक भाग गए थे, बाकी बचे को पुलिस ने भगाया। इसके बाद रात रात में भंडारी गली, काजीपुरा, हरमाला रोड पर सर्चिंग की। फिलहाल कोई हाथ नहीं लगा है। घायलों का रात 2.30 बजे अस्पताल में मेडिकल हुआ। पुलिस ने इस मामले में नदीम, अदनान, रईस, पप्पू, अस्सू तथा अन्य के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया।

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं

Share This Post