ईसाई न बनने पर मिली ऐसी प्रताड़ना की जहर खाने पर मजबूर हुआ वह शिक्षक जो रामलीला में बनता था श्रीराम…

एक बार फिर धर्म परिवर्तन का मामला सामना आया है, जिसके चलते एक शिक्षक ने अपनी ही जान लेने की कोशिश की। आखिर ऐसी क्या बात हो गयी, जो शिक्षक अपने शिष्यों को जीवन का मूल्य समझाता है, उसने ही आत्महत्या जैसे संगीन अपराध को अंजाम दिया। दरअसल, यह घटना ओजपुरा के निकट स्थित एक इंग्लिश मीडियम स्कूल की है।  

जहां, एक इंग्लिश मीडियम स्कूल में बतौर संगीत टीचर के पद पर कार्यरत शिक्षक ने धर्म परिवर्तन के दवाब बनाने पर नींद की गोलियां खाकर आत्महत्या करने की कोशिश की, जिसे गंभीर हालत में जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। जानकारी के मुताबिक, शिक्षक के पास से एक सुसाइड नोट भी बरामद किया गया है, जिसमे साफ तौर पर मौत का जिम्मेदार स्कूल के स्टाफ और मैनेजमेंट को बताया गया है।  
बता दें कि संजीव आर्यन हर बार अपनी लेबर कालोनी में आयोजित होने वाली श्रीरामलीला मंचन में हमेशा भगवान श्रीराम का किरदार निभाया करते है, उसी श्रीराम का किरदार निभाने वाले ने शनिवार की सुबह नींद की गोलियां खाकर खुद की जान लने की कोशिश की। विश्व हिंदू परिषद का संपर्क प्रमुख दिनेश व परिजन उसे जिला अस्पताल लाए जहां उसने बताया कि उस पर स्कूल में स्टाफ और मैनेजमेंट जबरन धर्म परिवर्तन को दबाव बना रहा था, लेकिन संजीव के मना करने पर उसकी दो माह की सैलेरी रोक कर उसे बिना नोटिस दिए नौकरी से हटा दिया गया।  
मानसिक तौर से परेशान होकर यह कदम उठाने में मजबूर हो गया शिक्षक और साथ में एक सुसाइड नोट भी छोड़ा, जिसमे आत्महत्या जैसा कदम उठाए जाने और इसके लिए स्कूल स्टाफ व मैनेजमेंट को जिम्मेदार ठहराते हुए पुलिस से कार्यवाही की भी मांग की। फिलहाल, पुलिस को भी इस बात की सूचना दी गई है और शिक्षक का जिला अस्पताल में इलाज चल रहा था। 
Share This Post

Leave a Reply