Breaking News:

फुल एक्शन में मोदी सरकार. गिलानी के दामाद की गिरफ्तारी के बाद मीरवाइज की सुरक्षा हुई आधी….

जिसकी थाली में खाते है उसी में छेद करते है। सुरक्षा भारत से पाते है गुणगान पाकिस्तान की गाते है। ये अलगाववादी कश्मीर को बाँटने पर तुले हुए हैं। धीरे-धीरे महबूबा मुफ़्ती की सरकार ने अलगावादियों के पर काटने शुरू कर दिए है। आये दिन घाटी में बढ़ रहे तनाव में अलगाववादियों के हाथ होने के मद्देनज़र ये फैसला लिया गया है। 
गौरतबल है कि महबूबा मुफ़्ती की जम्मू कश्मीर सरकार ने बुधवार को ऑल पार्टी हुर्रियत कांफ्रेंस गुट के अलगावादी नेता मीरवाइज मौलवी उमर फारूक जो की ऑल पार्टी हुर्रियत कांफ्रेंस के उदारवादी गुट के चेयरमैन भी है, उनकी सुरक्षा कवच को कम कर दिया है। मीरवाइज को जेड श्रेणी की सुरक्षा प्राप्त थी, लेकिन अब उन्हें किस वर्ग में रखा गया है, इसकी तत्काल पुष्टि नहीं हो पायी है। मीरवाइज ने अपनी सुरक्षा में कटौती की बात की औपचरिक घोषणा करते हुए कहा कि मुझे इससे कोई फर्क नहीं पड़ने वाला। मैंने कभी किसी सुरक्षा के लिए किसी से आग्रह नहीं किया था। 
मीरवाइज की सुरक्षा में सुरक्षाकर्मियों की कुल संख्या 16 थी जो अब घट के 8 रह गई है। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआइए) ने बुधवार को हुर्रियत कांफ्रेंस के उदारवादी गुट के चेयरमैन मीरवाइज मौलवी उमर फारूक के दो रिश्तेदारों से पूछताछ भी  की। मीरवाइज के रिश्तेदार मौलवी मंजूर व मौलवी शफात दोनों सेवानिवृत्त सरकारी मुलाजिम हैं। इन दोनों से अभी कुछ दिन और पूछताछ चल सकती है। अलगाववादियों पर नकेल से आशा करते है आने वाले दिनों में घाटी में होने वाली हिंसा में कमी आये और शांतिमय माहौल बने। 
Share This Post