Breaking News:

थाना फूंकने का आदेश देने वाली कांग्रेस विधायिका को अब थाने वाले ही बताएंगे कानून का असली अर्थ

मंदसौर : किसान आंदोलन के दौरान वहां पर हिंसा की चिंगारी के उठते ही मध्य प्रदेश में शिवपुरी के करेरा से कांग्रेस विधायक शकुंतला खटीक के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है। शकुंतला खटीक पर किसानों को हिंसा के लिए उकसाने और पुलिस स्टेशन में आग लगाने के आरोप हैं। दरअसल, शकुंतला ने मंदसौर में किसान की मौत के बाद भड़की हिंसा के दौरान अपने कार्यकर्ता को थाना जलाने के लिए कहा था।

शकुंतला पर धारा 353, 406 के तहत केस एफआईआर दर्ज की गई है। हालांकि, शकुंतला खटीक ने अपने ऊपर लगे आरोपों पर सफाई देते हुए कहा कि मेरे बयान को गलत तरीके से पेश किया गया हैं। वहीं, किसान आंदोलन के दौरान शकुंतला खटीक के वायरल हो रहा है, जिसमें साफ दिखाई दे रहा है कि शकुंतला ने कहा था कि मैंने पुलिस को बताया कि अगर वे महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित नहीं कर पा रहे हैं, तो वे पुलिस स्टेशन में क्यों बैठे हैं, इसे आग लगा दो। 

शकुंतला के इस धाकड़ भड़काऊ भाषण का नतीजा ये हुआ कि रतलाम के ढेलनपुर गांव में शनिवार को इनके समर्थकों ने कई वाहनों को आग के हवाले कर दिया, जिसमें पुलिस की भी तीन गाड़ियां शामिल थीं। इस दौरान हुए पथराव में दो पुलिसवाले भी घायल हुए थे। फिलहाल, इस समय शकुंतला फरार है। गौरतलब है कि मध्यप्रदेश में कर्ज माफी की मांग पर विरोध कर रहे किसानों के प्रदर्शन ने हिंसक रुप तब ले लिया जब प्रदर्शन के दौरान हुई फायरिंग में 6 किसानों की मौत हो गई थी। 

Share This Post