अस्पताल में घुसते ही मरीजो को एहसास होता है कि वो किसी टार्चर रूम में आये हैं.. बीमारी ले कर आये मरीज वापस ले जाते हैं गरीबी भी. ये हाल बना रखा है आसिफ जमाल ने


एक तरफ जहाँ योगी सरकार अपने शासन प्रशासन के हर अंग को लगातार उपरी स्तर पर ले जाने के तमाम प्रयास कर रही है तो वहीँ दूसरी तरह उन्ही में से कुछ ऐसे भी लोग हैं जो कभी अपनी आदत के अनुसार तो कभी अपने साजिश को मूर्त रूप देने के लिए नित नए षड्यंत्र रचते जा रहे हैं . अगर योगी सरकार के अब तक के इतिहास पर नजर डाली जाय तो उन्हें सबसे ज्यदा हाशिये पर स्वास्थ्य सेवाओं के चलते आना पड़ा था जिसमे गोरखपुर का BRD हॉस्पिटल मामला सबसे प्रमुख रहा था..

इसके अलावा जो मामले विपक्ष के निशाने पर रहे उसमे दूसरे नम्बर पर महिला सुरक्षा आदि का विषय .. उस घटना के बाद योगी सरकार ने स्वास्थ्य सेवाओं को सुधारने के लिए कई कदम उठाये थे जिसका तमाम जगहों पर सुखद असर देखने को भी मिला .. लेकिन कोई जगह ऐसी भी है जहाँ पर उन तमाम प्रयासों का अंश मात्र भी असर देखने को नही मिल रहा है . वो जगह है जनपद चंदौली और अस्पताल का नाम है पंडित कमलापति त्रिपाठी चिकित्सालय.. यहाँ पर महिला सम्मान और चिकित्सीय सेवा का स्तर दोनों चिंताजनक है .

इस चिंता की जड में है यहाँ का डाक्टर आसिफ जमाल.. कहना गलत नहीं होगा कि यहाँ पर स्वस्थ होने के लिए आये मरीजो का खून तब तक चूसा जाता है जब तक कि वो बीमारी के साथ गरीबी से भी ग्रसित न हो जाएँ . इन सब हरकतों की जानकारी जिले के मुख्य चिकित्सा अधिकारी को न हो इसमें संदेह है क्योकि ये कृत्य व्यापक स्तर पर किये जा रहे हैं और काफी समय से भी.. सुदर्शन न्यूज संवाददाता प्रशांत सिंह ने इस अवैध कृत्य को जब अपने कैमरे में कैद किया तो मार पीट पर उतारू हो गया डाक्टर आसिफ ज़माल ..

यहाँ पर सरकारी दवाएं होने के बाद भी डाक्टर आसिफ जमाल बाहर से दवाएं मंगाने के लिए दबाव बनाता है .. वो तमाम दवाएं जो अस्पताल के अन्दर निशुल्क थीं वो भी गरीबों को बाहर से मंगानी पड़ती हैं .. इसके एवज में उन्हें मेडिकल स्टोरों से अच्छा ख़ासा कमीशन मिलता है . इस से मेडिकल स्टोरों के मालिको और मरीजो की तो भलाई हो जाया करती है लेकिन बेचारे गरीब मरीज बीमारी के साथ लाचारी के भी शिकार हो जाया करते थे.. इन सबकी जड में है डाक्टर आसिफ जमाल जिसकी वीडियो भी मौजूद है .

सबसे ख़ास बात ये है कि चंदौली जनपद प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी से जुड़ा हुआ है जहाँ पर कुछ भी होने का मतलब सीधे ऊँगली प्रधानमन्त्री तक उठना है.. इसके अलावा ये गृह जनपद है केन्द्रीय मंत्री डाक्टर महेंद्र नाथ पाण्डेय जी और केन्द्रीय मंत्री राजनाथ सिंह जी का.. साथ ही उत्तर प्रदेश सरकार के कैबिनेट मंत्री अनिल राजभर भी चंदौली से ही है.. इसके बाद भी अस्पतालों में ऐसी निरंकुशता हर किसी को एक बार सोचने पर मजबूर कर देगी कि क्या उन्हें कानून का कोई डर नहीं ?

सुदर्शन न्यूज जिला संवाददाता व जनपद चंदौली के वेब जर्नलिस्ट श्री प्रशांत सिंह जी ने डाक्टर आसिफ जमाल के पूरे कृत्य को जैसे ही कैमरे में कैद किया और पीड़ित ने ये कहा कि डाक्टर साहब बहार से दवाएं लिखते हैं , तो डाक्टर आसिफ जमाल उन्मादी रूप दिखाने लगा और हमलावर की पोजीशन में कैमरे पर एक महिला को भद्दी भद्दी गलियां देते हुए पत्रकारों तक से भिड़ने की कगार पर आ गया . फ़िलहाल सारी जानकारी जिलाधिकारी और CMO तक पहुच जाने के बाद अब तक कोई भी कार्यवाही नही हुई है .

यहाँ बात सिर्फ बाहर से कमीशन के चक्कर में दवाये लिखने की नहीं है बल्कि महिला मरीजो से दिखाए गये दुर्वयवहार की भी है.. मिली जानकारी के अनुसार डाक्टर आसिफ जमाल अपने साथी जूनियर डाक्टरों से भी बेहद अव्यवहारिक रूप से पेश आता है.. इतने के बाद भी उच्चाधिकारियों द्वारा आँख बंद कर के इन तमाम कृत्यों को बढ़ावा देना योगी सरकार के रामराज्य के सपनों पर एक आघात ही माना जा सकता है . नीचे देखिये डाक्टर आसिफ जमाल का अव्यवहारिक रूप जिस पर खामोश है जनपद चंदौली का प्रशासन .

 

रिपोर्ट- 

प्रशांत सिंह 

वेब जर्नलिस्ट – जनपद चंदौली , UP

मोबाईल – 9264915248

 


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...