विधायक नाहिद हसन पर की गई ये कार्यवाही साबित करती हैं, कि जनपद शामली में कानून से ऊपर कुछ भी नहीं,,


मुज़फ्फरनगर/ उत्तर प्रदेश

दरसल यह पूरा मामला बीते 9-सितम्बर का है की जब शामली पुलिस द्वारा वाहन चेकिंग अभियान चलाया जा रहा था। इसी दौरान एक पजेरो गाड़ी भी उधर से गुजरी। जब एसडीएम व सीओ कैराना द्वारा कैराना विधायक नाहिद हसन द्वारा प्रयोग में लाई जा रही पजेरो स्पोर्ट कार जिसका नम्बर P J P 32 संदिग्ध प्रतीत होने पर उनके चालक से गाड़ी के काग़ज़ात दिखाने को कहा गया था। इस पर विधायक द्वारा गाड़ी के काग़ज़ नहीं दिखाए गए, विधायक होने का व विधायक के प्रोटोकॉल का हवाला दिया गया, उच्च व उग्र स्वर में राजपत्रित अधिकारियों से अभद्रता की गई, लोगों को उकसाते हुए मौक़े पर भीड़ एकत्रित की गई, जिसके कारण लोक-व्यवस्था पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा था। साथ ही, महत्वपूर्ण त्यौहारों के मद्देनजर जनपद में लागू धारा 144 का भी विधायक द्वारा घोर उल्लंघन किया गया था। उक्त मामले का एक वीडियो भी वायरल हो रहा है। जिसमे की गई अभद्रता की पुष्टि होती है। साथ ही एडिशनल एसपी की जाँच  होने के उपरान्त एसपी शामली के आदेश पर  कुल 9 धाराओं के तहत मुक़द्दमा दर्ज कर गहन तफ्तीश शुरू कर दी गई है।

उल्लेखनीय है कि विधायक पक्ष को पुलिस अधीक्षक शामली अजय कुमार के द्वारा उनके बार-बार समय माँगने का सम्मान करते हुए 72 घण्टे से भी ज़्यादा का समय दिया गया; परन्तु इसके बावजूद भी गाड़ी के मालिकाना हक़ या पंजीकरण संबंधी एक भी वैध काग़ज़ात दिखा पाने में विधायक पूरी तरह से विफल हो गए हैं। साथ ही, रीजनल ट्रांसपोर्ट अथॉरिटी द्वारा भी लिखित में यह सूचना उपलब्ध करा दी गई है कि उक्त गाड़ी से संबंधित कोई भी काग़ज़ात उनके कार्यालय में उपलब्ध नहीं हैं। आगे की कार्यवाही जारी है।

रिपोर्ट

समर ठाकुर

वेब जर्नलिस्ट/मुज़फ्फरनगर

Mob-9368004900


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...