तमिलनाडु में राजनीतिक उठा-पटक, शशिकला को AIADMK से किया दूर

चेन्नई : तमिलनाडु की सत्तधारी पार्टी अखिल भारतीय द्रविड़ अत्राद्रमुक में चल रहें महत्वपूर्ण राजनीतिक घटनाक्रम में मंगलवार को चौकाने वाला फैसला आया है। इस फैसले के तहत पार्टी की महासचिव शशिकला और उनके भतीजे टीटीवी दिनाकरन और उनके परिवार को पार्टी से हटाने का फैसला किया है।
इस बात कि जानकारी तमिलनाडु के वित्त मंत्री डी जयकुमार ने देर रात तक चली बैठक के बाद दी। इस बैठक में लगभग 122 विधायक शामिल हुए थे। बैठक के दौरान यह फैसला किया गया है कि पार्टी का कामकाज देखने के एक कमेटी का गठन किया जाएगा और यह कमेटी ही पार्टी के सभी बड़े फैसले लेगी। तमिलनाडु सरकार में मंत्री डी जयकुमार ने मीडिया से कहा कि पार्टी ने एकमत होकर फैसला किया है और शशिकला और उनके परिवार के किसी भी सदस्य को पार्टी में नहीं रखा जाएं। 
     
वहीं, इससे पहले अन्नाद्रमुक के विरोधी धड़े के नेता ओ. पनीरसेल्वम के पार्टी प्रमुख वीके शशिकला के खिलाफ आवाज़ बुलंद करते हुए कहा था कि उनका ”मूल सिद्धांत” है कि पार्टी या सरकार किसी एक परिवार के हाथों में नहीं रहेगी। इस साल फरवरी में विरोध करने के बाद शशिकला द्वारा पार्टी से बाहर निकाले गए पनीरसेल्वम दिवंगत जे. जयललिता की मौत की जांच कराने की मांग पर भी अटल किया था। 
गौरतलब है कि जयललिता के निधन के बाद पन्नीरसेल्वम को तमिलनाडु का मुख्यमंत्री बनाया गया था। शशिकला खुद मुख्यमंत्री बनना चाहती थी जिसके कारण उन्होंने पन्नीरसेल्वम को मुख्यमंत्री पद से हटा दिया। लेकिन आखिरी वक्त पर जेल जाने के कारण उन्हें पलनीस्वामी को मुख्यमंत्री बनाना पड़ गया।  
Share This Post