शिवपाल यादव की पार्टी के अयोध्या जिलाध्यक्ष का बेटा पॉस्को में गिरफ्तार. इलाके की बेटियों ने पुलिस को कहा “धन्यवाद”


एक तरफ शिवपाल यादव उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के ऊपर महिला सुरक्षा और कानून व्यवस्था आदि के मुद्दे पर हमलावर थे तो वहीँ उनकी ही पार्टी के नेताओं के परिवार से ऐसे ऐसे मामले सामने आ रहे हैं जो न सिर्फ उन्हें बल्कि उनकी पूरी पार्टी को शर्मिंदा करने के लिए काफी हैं . जहाँ अपनी सरकार बनने पर जनता के लिए पिटारा खोल देने का वादा कर के शिवपाल यादव उत्तर प्रदेश में अपनी पकड मजबूत करने में जुटे हैं तो वहीँ उनकी पार्टी के पदाधिकारियों ने कुछ ऐसा करना शुरू कर दिया है जो आने वाले कल का आईना भी माना जा सकता है .

ज्ञात हो कि ये मामला उत्तर प्रदेश के जनपद अयोध्या का है. यहाँ पर शिवपाल यादव ने तमाम लोगों की मौजूदगी में अपनी पार्टी समाजवादी सेकुलर मोर्चा की कमान महराजगंज थानाक्षेत्र में पड़ने वाले मडना गाँव के ललित यादव के हाथो में सौंपी थी . ललित यादव ने भी अपनी राजनैतिक पारी खेलनी शुरू कर दी और जिले में शिवपाल की महानता का गुणगान करने लगे .. लेकिन समाज और प्रदेश को सुधार देने का वादा करने वाले ललित यादव अपने ही सन्तान को नहीं सुधार पाए .  उनका बेटा विशाल यादव गिरफ्तार हुआ है एक नाबालिग लड़की से छेड़छाड़ के मामले में . कोचिंग जाती एक लड़की के पीछे कई लड़के काफी दिन से परेशान करने और प्रताड़ित करने की बदनीयति से पड़े थे  जिसमें ललित यादव का बेटा विशाल यादव भी शामिल था . वो और उसके ३ साथियों की पूरी गैंग लडकियों को परेशान करने के लिए जिले में कुख्यात थीं .

वो इन्ही जिलाध्यक्ष की उस सेंट्रो कार का दुरूपयोग करता था जिस को ले कर ललित यादव गाँव गाँव श्विपाल यादव की महिमा का बखान करने जाया करते थे . इतना ही नहीं , लडकी के मना करने के बाद भी वो अपने पापा की बहुत ऊंची पहुच बता कर न सिर्फ लड़की बल्कि उसके पूरे परिवार को धमकी दिया करता था . यहाँ पर ये ध्यान देने योग्य है कि ललित यादव को अयोध्या के साधू संतों ने भी उनकी नियुक्ति पर आशीर्वाद दिया था और समाज में सुरक्षा और शांति की आशा जताई थी लेकिन उनके कृत्यों से यकीनन उन साधू संतो को भी पीड़ा हुई होगी जिनमे उन्होंने ये आशा जगाई थी..

यहाँ प्रसंशा की पात्र अयोध्या की पुलिस है जिसके महराजगंज थाने ने मामले को संज्ञान में आते ही दोषियों को क़ानून का पाठ पढ़ाया . थानाध्यक्ष ने इस मामले में तत्काल कार्यवाही करते हुए जिलाध्यक्ष के बिगड़े बेटे और उसके साथियों को गिरफ्तार किया और उचित धाराओं में जेल भेज दिया . प्रसंशा की पात्र पुलिस बल है जो न्याय को सर्वोपरि रखते हुए किसी भी प्रकार से दबाव के आगे नहीं झुकी और वही किया जो न्यायोचित था. पूरे क्षेत्र की बेटियों और उनके अभिभावकों ने पुलिस को उनके इस कार्य के लिए धन्यवाद बोला है और उनका कानून व्यवस्था के इन रक्षको में विश्वास भी बढ़ा है .  फिलहाल समाजवादी सेकुलर मोर्चा के जिलाध्यक्ष के बेटे का नाबालिग से छेड़छाड़ पूरे जिले में शर्मनाक चर्चा का विषय बना हुआ है और सभ्य समाज के कई लोग इस बेहद शर्मनाक घटना को शिवपाल यादव के आने के बाद उत्तर प्रदेश का भविष्य भी बता रहे हैं .


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...