वंदेमातरम् की कांग्रेसी बंदी को भाजपा की चुनौती. शिवराज और BJP के सभी 109 विधायक सचिवालय में गायेंगे वन्देमातरम

भारत माता के पावन गीत वन्देमातरम के सरकारी कर्मचारियों के गाने पर प्रतिबंध लगाने के मामले ने अब तूल पकड लिया है . भारतीय जनता पार्टी ने कमलनाथ सरकार की इस चुनौती को सहर्ष स्वीकार कर लिया है और खुल कर एलान किया है कि वो और उनके सभी विधायक सचिवालय में भारत माँ की वन्दना के इस गीत वन्देमातरम को गायेंगे जिस को कमलनाथ से रुकवा दिया है . इस मुद्दे पर कांग्रेस की तरफ से अब तक कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है .

विदित हो कि हर तरफ निंदा का पात्र बन रही कमलनाथ सरकार के आदेश के खिलाफ अब मध्यप्रदेश का विपक्ष लामबंद हो गया है . ये एक ऐसी प्रथा थी जो मध्य प्रदेश में 15 सालों से चली आ रही थी जबकि असल में ये प्रथा आजादी के उन दीवानों ने चलाई थी जो भारत माता की आज़ादी के सपने के साथ सदा सदा के लिए अमरता को प्राप्त हो गये थे . एक लम्बे समय के बाद मध्य प्रदेश की सत्ता में वापसी करने वाली कांग्रेस और विपक्षी दल बीजेपी के बीच जुबानी जंग तेज हो गई है। मध्य प्रदेश सचिवालय में महीने की पहली तारीख को वंदे मातरम् गाने की 13 साल पुरानी परंपरा के टूटने पर पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा है।

पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने एलान किया है कि वंदे मातरम् के कारण लोगों के हृदय में प्रज्वलित देशभक्ति की भावनाओं में नयी ऊर्जा का संचार होता था। अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण है कि कांग्रेस की सरकार ने यह परंपरा आज तोड़ दी।  ‘अगर काग्रेस को राष्ट्र गीत के शब्द नहीं आते हैं या फिर राष्ट्र गीत गायन में शर्म आती है, तो मुझे बता दें, जनता के साथ हर महीने मैं वंदे मातरम् गाऊंगा।’ उन्होंने कहा कि वे बीजेपी के सभी 109 विधायकों के साथ 10:00 बजे वल्लभ भवन के प्रांगण में 7 जनवरी को वंदे मातरम् गाएंगे।शिवराज सिंह चौहान ने इस मुहिम से सभी को जुड़ने की अपील भी की है। मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार पर बड़ा हमला बोलते हुए शिवराज सिंह ने एक के बाद एक कई ट्वीट किए, ‘कांग्रेस शायद यह भूल गई है कि सरकारें आती है, जाती है लेकिन देश और देशभक्ति से ऊपर कुछ नहीं है। मैं मांग करता हूँ कि वंदे मातरम् का गान हमेशा की तरह हर कैबिनेट की मीटिंग से पहले और हर महीने की पहली तारीख को हमेशा की तरह वल्लभ भवन के प्रांगण में हो।’

 

Share This Post