एस टी हसन के सांसद बनते ही मुरादाबाद में उठी मांग- “रमजान भर पुलिस चेक न करे मुसलमानो के वाहन”

भले ही इस खबर पर किसी की नजर नहीं गई हो और इसको सामजिक सौहार्द के रूप में दिखाया जा रहा हो लेकिन इसका सीधा सम्बन्ध समाज की शांति और सुरक्षा से है. मुरादाबाद में जब गठबंधन प्रत्याशी डॉ एस टी हसन की जीत भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी के खिलाफ हुई थी तब इसको सेकुलरिज्म की जीत बताते हुए तथाकथित सेकुलर दलों ने एक उपलब्धि बताया था.. अब उन्ही सांसद में उठाई है ऐसी मांग जो सिर्फ मुसलमानों से सम्बन्ध रखती है .

ध्यान देने योग्य है कि 17वीं लोकसभा चुनाव के तहत उत्तर प्रदेश की मुरादाबाद सीट से मुरादाबाद से गठबंधन प्रत्याशी सपा के डॉक्टर एस.टी. हसन ने भाजपा के मौजूदा सांसद कुंवर सर्वेश कुमार को 97878 मतों से पराजित किया है. अब उन्ही नवनिर्वाचित सांसद डॉ एस टी हसन ने पहली चिट्ठी पुलिस विभाग को लिखी है जिसमें उन्होंने मुसलमानों के रमजान महीने में इफ्तार के वक्त दोपहिया वाहनों की चेकिंग नहीं करने की अपील की है.

पुलिस द्वारा वाहनों की चेकिंग को मुसलमानों का मानसिक उत्पीडन बताते हुए उन्होंने एसएसपी से शाम 5:00 बजे से लेकर 7:00 बजे के दरमियान दो पहिया वाहन चेकिंग बंद करने की मांग की है. उनके अनुसार इस माह में मुसलमान रोजा नमाज की पाबंदी करते हैं, लेकिन पिछले कुछ दिन से इफ्तार के वक्त मुख्य चौराहों और सड़कों पर पुलिस वाहनों की चेकिंग शुरू कर देती है। इसकी वजह से दुकानों, फैक्ट्रियों समेत अन्य कारोबार बंद कर रोजा इफ्तार के लिए घर लौट रहे रोजेदारों को चेकिंग में फंसकर विलंब हो जाता है।

Share This Post