कश्मीर का नजारा दिखा मुजफ्फरनगर में. पुलिस से ही भिड़ गए आताताई..

मुज़फ्फरनगर में एक ऐसा मामला सामने आया है जहां पुलिस को उसकी कार्यवाही करने से रोकने की कोशिश की गई। दरअसल, खालापार क्षेत्र के मौहल्ला कस्सावान में पुलिस एक केस के सिलसिले में एक आरोपी की तलाश में उसके घर पर गए थे, लेकिन वो तो नहीं मिला उसका भाई और अन्य युवक मिले और पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया। जब पुलिस उन लोगों को ले जाने लगी तो पुलिस को रोकने के लिए कुछ लोग वहां इकठ्ठा हो गए और इसका विरोध करने लगे।

बताया जा रहा है कि एक सप्ताह पूर्व हुए कस्सावान बवाल में दर्ज हुए मुकदमे में मनसाद नाम का युवक भी इस मुकदमे में नामजद हुआ था। इस मामले की तह तक पहुंचने के लिए पुलिस ने उसके जामियानगर में स्थित निवास पर छापा डाला। जामियानगर निवासी मोबीन व एक अन्य युवक की गिरफ्तारी कर कोतवाली ले जाने पर सैंकडों लोग शहर कोतवाली पहुंच गये और पुलिस पर ही उत्पीडन करने का आरोप लगाते हुए जमकर हंगामा किया। लोगों से पता चला कि मोबिन पत्थर का मिस्त्री है।
पुलिस की कार्यवाही में लोग समस्या पैदा करने लगे, ताकि मोबिन को छोड़ दिया जाए। गौरतबल है कि यूपी में योगी सरकार आते ही अपराधियों की नींद उड़ गयी है। पुलिस अपराधियों को लताड़ने का कोई मौका नहीं छोड़ रही। अपराधियों के बढ़ते परों को काटने के लिए यूपी की बीजेपी सरकार ने पुलिस विभाग को खुली छूट दे रखी है। आपको बता दें कि कल ही सदन में यूपी को सांप्रदायिक मामलो में प्रथम स्थान दिया गया है। यूपी की योगी सरकार अपराधियों को नेस्तनाबूद करके छोड़ेगी।
Share This Post

Leave a Reply