“जय भीम” के साथ “जय समाजवाद” नहीं कहा तो ये हुआ उसका हाल.. बीजेपी समर्थकों पर समाजवादी कहर


रस्सी जल गई लेकिन ऐंठन नहीं गई.. ये कहावत समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं पर पूरी तरह से चरितार्थ हो रही है. एकसमय उत्तर प्रदेश के साथ देश की राजनीति की धुरी मानी जाने वाली समाजवादी पार्टी आज पूरी तरह से हाशिये पर पहुँच चुकी है. पहले 2014 के लोकसभा चुनावों में जनता ने सपा को जमीन सुंघाई तो उसके बाद 2017 के यूपी विधानसभा चुनावों में पूरी तरह से खात्मा कर दिया. सपा की दयनीय स्थिति का अंदाजा इस बात से भी लगाया जा सकता है कि जनता के इस कोप तथा बीजेपी के विही रथ को रोकने ने लिए सपा उस बसपा से हाथ मिला चुकी है, जिसका वह हमेशा से तीव्र विरोध करती रही है.

कांग्रेस शासित एक प्रदेश में हिन्दू नेता की बेरहमी से ह्त्या.. सेक्यूलर सरकार में गोलियों ने भून डाला गया अनिल सोनी

इतना सब कुछ होने के बाद भी अभी तक सपा कार्यकर्ताओं की गुंडागर्दी की आदत नहीं गई है. जब सपा सत्ता में होती थी तब ऊपर से नीचे तक सभी ये मानते थे, सपा की ये छबि बन गई थी कि ये सरकार जनता की नहीं बल्कि गुंडों की सरकार है तथा इस सरकार में गुंडे राजनैतिक संरक्षण पाकर गरीबों, कमजोरों पर अत्याचार करते हैं. सपा की इसी कार्यशैली से तंग आकर जनता ने उसको सबक सिखाया था. लेकिन इस सबके बाद भी लगता है कि सपा कार्यकर्ताओं का उन्मादी आचरण ठीक होने का नाम नहीं ले रहा है.

12 अप्रैल – आज ही तड़प कर मौत के घाट उतरा था भारत में निर्दोषों का लहू बहाने वाला “इल्तुतमिश” . आखिर कौन था ये ?

मामला उत्तर प्रदेश के इटावा के थाना बकेवर क्षेत्र के गांव अंदावा का है जहाँ सपा समर्थकों ने प्रधान के भाई को केवल इस बात पर पीट दिया कि वह भाजपा का समर्थक है. दबंगों ने उसे लाठी-डंडों से पीट-पीटकर बुरी तरह से लहूलुहान कर दिया. पुलिस ने पीड़ित की तहरीर पर मामला दर्ज कर लिया है. घायल को डॉक्टरी कराने के लिए भेजा गया है. ग्राम प्रधान अंदावा गजराज सिंह ने बताया कि उसका भाई मदन सिंह पुत्र कांशीराम अपने ट्यूबवेल पर था. गांव के ही दबंगों ने गाली गलौज करते हुए कहा कि तुम भाजपा का समर्थन करते हो तो अब बंद कर दो.

दबंगों ने उसके भाई से कहा कि अब जय भीम-जय भाजपा नहीं बल्कि जय भीम-जय समाजवाद कहना होगा अथवा गांव में नहीं रहने दूंगा. न ही वोट डालने दूंगा. मदन ने विरोध किया तो शराब के नशे में धुत दबंगों ने उसे लाठी डंडों से मारपीट कर बुरी तरह से लहूलुहान कर दिया. वहीं थाना प्रभारी एसके त्रिपाठी ने बताया कि पीड़ित की तहरीर पर मामला दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है. आरोपियों को पकड़ने के लिए दबिश दी जा रही है.

11 अप्रैल – बलिदान दिवस, बलिदानी खाज्या नायक. मंगल पाण्डेय जैसा ही एक महायोद्धा जिसने ब्रिटिश आर्मी में होते हुए की बगावत और प्राप्त की अमरता

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने व हमें मज़बूत करने के लिए आर्थिक सहयोग करें।

Paytm – 9540115511


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...