Breaking News:

दिल्ली पहुंचा जाट आंदोलन, 13 मार्च से असहयोग आंदोलन की घोषणा की

नई दिल्ली : हरियाणा में चल रहे जाट आंदोलन की आंच आज दिल्ली पहुंच गई है। साथ ही उन्होंने 13 मार्च से असहयोग आंदोलन की घोषणा की है। बता दें कि आंदोलन में हरियाणा और दिल्ली के अलावा हिमाचल, यूपी, उत्तराखंड, पंजाब, राजस्थान और मध्य प्रदेश के जाट भी हिस्सा ले रहे हैं।

जाट नेताओं ने आंदोलनकारियों से महेंद्रगढ़, रेवाड़ी, पटौदी और गुरुग्राम होते हुए दिल्ली पहुंचने के लिए कहा है। बुधवार को हरियाणा विधानसभा में जाट आंदोलन पर चर्चा की गई। विधानसभा में बजट सत्र के दौरान स्थगन प्रस्ताव पेश करने वाले इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) के नेता अभय सिंह चौटाला ने कहा कि कांग्रेस और भाजपा हरियाणा में जाटों को सरकारी नौकरियों तथा सरकारी संस्थानों में आरक्षण पर राजनीति करने का प्रयास कर रही हैं।

चौटाला ने कहा कि राज्य की भाजपा सरकार जाट समुदाय की मांगों को पूरा करने में विफल रही है, जबकि उसने पिछले साल इस पर सहमति जताई थी। आरक्षण के अलावा जाट पिछले साल जाट आंदोलन के दौरान मारे गए लोगों के परिजनों को नौकरी, घायलों को मुआवजा, उनके खिलाफ दर्ज मामलों को वापस लेने तथा जाटों के खिलाफ कार्रवाई का आदेश देने वाले अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहे हैं।

वहीं, प्रदर्शनकारी बड़ी तादाद में गाड़ियों, ट्रैक्टर, ट्रॉलियों से दिल्ली के लिए कूच कर रहे हैं। इसके चलते दिल्लीवालों को कई जगहों पर ट्रैफिक की दिक्कत आ सकती है। प्रदर्शन के बाद जाट आरक्षण संघर्ष समिति नेता राष्ट्रपति को ज्ञापन सौंपेंगे। साथ ही आरक्षण के मसले पर संसद के घेराव की तारीख भी तय की जाएगी। आज ही जाट नेता आंदोलन का अगला एजेंडा तय करेंगे। जाट नेताओं की ओर से पेश होने वाले प्रस्तावों में दिल्ली की आर्थिक नाकाबंदी भी शामिल हो सकता है।

Share This Post