डीयू में धरने-प्रदर्शन का दौर जारी, कड़े पहरे में निकला ABVP का ‘SAVE DU’ मार्च

नई दिल्‍ली : दिल्ली यूनिवर्सिटी के रामजस कॉलेज में बीते दिनों हुई हिंसा के बाद शुरू हुआ विवाद थमता नहीं दिख रहा है। कैंपेस में एबीवीपी का ‘सेव डीयू’ मार्च आर्ट्स फैकल्टी से शुरू हो गया है। प्रदर्शनकारी विश्वविद्यालय मेट्रो स्टेशन से होते खालसा कॉलेज, मिरांडा कॉलेज, एसआरसीसी, डीआरसी, रामजस कॉलेज और फिर आर्ट फैकल्टी में स्वामी विवेकानंद की मूर्ति तक मार्च करेंगे।

एबीवीपी के मुताबिक मार्च के जरिये छात्रों से ‘कम्युनिस्ट ब्रिगेड के भारत-विरोधी एजेंडा’ के खिलाफ आवाज उठाने का आह्वान किया जा रहा है। संगठन का दावा है कि ये आम छात्रों का प्रदर्शन है और टीचर भी अच्छी खासी तादाद में इसमें शिरकत कर रहे हैं। आपको बता दें कि 22 फरवरी को रामजस कॉलेज के कैंपस में वामपंथी छात्र संगठन AISA और एबीवीपी के बीच झड़प हुई थी। विवाद एक सेमिनार में जेएनयू नेता शेहला रशीद और उमर खालिद की शिरकत को लेकर शुरू हुआ।

सेना के शहीद की बेटी गुरमेहर कौर के एबीवीपी के खिलाफ वायरल पोस्ट के बाद मसले ने और तूल पकड़ लिया था। इससे पहले, एबीवीपी ने दावा किया था कि दिल्ली विश्वविद्यालय के रामजस कालेज में हाल की हिंसा बाहरियों के उकसावे का परिणाम है और ‘राष्ट्र विरोधी’ तत्वों ने इसका दोष हमारे ऊपर मढ़ने का काम किया। इसके उपरांत एबीवीपी ने कैम्पस में बाहरी लोगों के प्रवेश एवं माहौल खराब करने के प्रयास के खिलाफ 2 मार्च को विरोध प्रदर्शन का आह्वान किया।

ज्ञात हो कि एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने शहीद की बेटी गुरमेहर कौर को धमकी देने वाले लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने के लिए पुलिस से संपर्क भी किया। वहीं, विरोध प्रदर्शन के मद्देनजर डीयू कैंपस में अर्धसैनिक बल तैनात किये गए हैं। रैली के पूरे रूट पर पुलिस की भारी तैनाती है। छात्रों को कानून ना तोड़ने की सख्त हिदायत दी गई है। दूसरी तरफ, आम आदमी पार्टी ने जालंधर में गुरमेहर कौर के समर्थन में सड़क पर उतरने का फैसला किया है। यहां कई दूसरे सिख संगठन भी उनके समर्थन में प्रदर्शन करने वाले हैं।

Share This Post