नेताओं के बाद #Police के आगे झुकना होगा तानाशाही की तरफ बढ़ रहे #ArvindKejriwal को… वर्दी वाले रक्षकों पर की थी अभद्र टिप्पणी


आम आदमी पार्टी के मुखिया तथा दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल अपने बडबोलेपं के लिए जाने जाते हैं. अरविन्द केजरीवाल एक वो नेता हैं जिन्होंने सत्ता पाने के लिए विरोधी नेताओं पर झूठे आरोप लगाये तथा जनता को भ्रमित करके सत्ता पाई तथा बाद में सभी नेताओं से माफी मांग ली कि उन्होंने सब झूठ बोला था. झूठे आरोप लगाने में माहिर अरविन्द केजरीवाल ने समाज के रक्षक वर्दीवालों(पुलिस) पर अभद्र टिप्पणी की थी तथा दिल्ली पुलिस के जवानों को ठुल्ला कहा था. पुलिस को ठुल्ला कहने के बाद दिल्ली पुलिस के एक सिपाही ने अरविन्द केजरीवाल के खिलाफ मानहानि का केस दर्ज कराया था.

नेताओं से माफी मांग चुके अरविन्द केजरीवाल को अब शायद वर्दीवालों के आगे भी झुकना पड़ेगा. दिल्ली पुलिस को ठुल्ला कहने के मंगानी मामले में दिल्ली हाईकोर्ट के न्यायाधीश ने अरविन्द केजरीवाल को पुलिस के जवानों से माफी मांगने की सलाह दी है. न्यायमूर्ति अनु मल्होत्रा ने सवाल किया कि अगर मुख्यमंत्री वित्त मंत्री अरुण जेटली समेत अन्य लोगों से माफी मांग सकते हैं तो फिर पुलिसकर्मियों को ठुल्ला कहने के मामले में माफी क्यों नहीं मांग सकते? अदालत की पीठ ने कहा कि अगर मुख्यमंत्री अपने अन्य बयान के लिए माफी मांग रहे हैं तो वह ऐसा ही पुलिसकर्मियों के मामले में करके क्यों नहीं मामले को खत्म कर लेते?

न्यायालय की इस बात पर मुख्यमंत्री केजरीवाल की ओर से पेश वकील ने कहा कि वह इस संबंध में अपने मुवक्किल से निर्देश लेने के बाद ही कुछ कह पाएंगे. केजरीवाल के वकील के इस बयान पर कोर्ट ने सुनवाई के लिए मामले को 29 मई के लिए सूचीबद्ध कर लिया. गौरतलब है दिल्ली हाईकोर्ट अरविन्द केजरीवाल द्वारा दिल्ली पुलिस को ठुल्ला कहने पर एक सिपाही द्वारा दायर मानहानि केस पर सुनवाई कर रहा है जिसमें याची सिपाही ने कहा था कि मुख्यमंत्री केजरीवाल ने ठुल्ला शब्द का इस्तेमाल करके सभी सीमाएं पार कर दी हैं तथा दिल्ली पुलिस का अपमान किया है.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share